नई दिल्ली: सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 2.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती किये जाने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि जनता की परेशानी को कम करने के लिये पेट्रोलियम उत्पादों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाया जाना चाहिए.

 

गांधी ने ट्वीट कर कहा कि आदरणीय श्री मोदीजी, आम जनता पेट्रोल-डीजल के आसमान छूते दामों से बहुत ज्यादा परेशान है. आप कृपया पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में ले आइए. दरअसल, सरकार ने गुरुवार को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में एक व्यवस्था के तहत 2.50 रुपये प्रति लीटर कटौती की घोषणा की. इसमें 1.50 रुपये की कमी उत्पाद शुल्क में कटौती से हुई है, जबकि पेट्रोलियम का खुदरा कारोबार करने वाली सरकारी कंपनियों को एक रुपये प्रति लीटर का बोझ वहन करने के लिए कहा गया है.

यूपी-महाराष्ट्र सहित 11 राज्यों में 5 रुपये सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल ने लगाए आरोप

कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी को बताया ‘चींटी’
उधर, कांग्रेस ने गुरुवार को हुई इस कटौती को ‘एक चींटी’ के रूप में उल्लेखित किया जबकि पेट्रोल और डीजल के दामों में ‘हाथी’ जैसी भारी वृद्धि थी. बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में राहुल ने पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की थी. एक साल में पेट्रोल की कीमतें 90 रुपये जबकि डीजल 80 रुपये के आसपास पहुंच गई है. (इनपुट एजेंसी)