नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले की पुष्टि होने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि देश में आपात हालात हैं. ऐसे में उन्हें अपने सोशल मीडिया खातों पर ‘‘मसखरी’’ करने से बचना चाहिए. सोमवार को कोरोना वायरस के दो नए मामले आने के बाद राहुल गांधी ने यह तंज कसा है. इनमें से एक मामला दिल्ली में सामने आया है. गांधी ने ट्वीट किया है, ‘‘प्रिय प्रधानमंत्री कार्यालय, अपने सोशल मीडिया खातों के साथ मसखरी करके वक्त बर्बाद करना बंद करें. प्रत्येक भारतीय की कोरोना वायरस चुनौती पर ध्यान दें.’’ Also Read - मोदी सरकार का किसानों के लिए कर्ज माफ़ी का बड़ा प्लान, 1 लाख करोड़ के लोन होंगे माफ़!

इस संदेश के साथ कि ‘‘ऐसे किया जाता है’’, गांधी ने सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली एच. लूंग के देश के नाम संबोधन का वीडियो ट्वीट किया है. इसमें लूंग देशवासियों को बता रहे हैं कि कोरोना वायरस से कैसे निपटा जाए. गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के उस ट्वीट पर भी चुटकी ली जिसमें उन्होंने इस रविवार को अपने सभी सोशल मीडिया खातों… फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यू्-ट्यूब से दूरी बनाए रखने को कहा था. Also Read - सोनू सूद से एक महिला ने लगाई गुहार, 'पार्लर पहुंचा दीजिए,' एक्टर ने दिया जबरदस्त जवाब

मोदी ने मंगलवार को कहा कि महिला दिवस के दिन वह प्रेरणादायी महिलाओं के नाम पर एक दिन के लिए अपने सभी सोशल मीडिया खातों को बंद रखेंगे. उन्होंने लोगों से ऐसी महिलाओं की कहानियां साझा करने का भी अनुरोध किया था. दिन में गांधी ने कहा था कि ‘‘असली नेता’’ इस विषाणु की वजह से देश और अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को टालने पर अपना ध्यान पूरी तरह से केंद्रित करेगा. Also Read - Lockdown 5.0: इस दिन से लागू होगा लॉकडाउन 5.0! मन की बात में पीएम मोदी कर सकते हैं ऐलान, जानें क्या होंगे नए नियम

गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘प्रत्येक देश के लिए एक ऐसा मौका आता है जब उसके नेताओं की परीक्षा होती है. ‘असली नेता’ अपना पूरा ध्यान भारत और इसकी अर्थव्यवस्था पर विषाणु से उत्पन्न संकट को टालने पर केंद्रित करेगा.’’ कांग्रेस नेता ने 12 फरवरी के ट्वीट को भी टैग किया है जिसमें उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस हमारे लोगों और अर्थव्यवस्था के लिए बहुत खतरनाक है. गांधी ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि सरकार इस समस्या को गंभीरता से नहीं ले रही है. यह बहुत ही कठिन समय है.’’