लंदन: जर्मन के बाद इंग्‍लैंड के दौरे पर गए कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी मोदी सरकार पर एक के बाद एक हमले कर रहे हैं. बर्लिन में भाजपा पर भारतीय समाज को तोड़ने का आरोप लगाने के बाद शुक्रवार को लंउन में राहुल एक बार फिर आक्रामक मूड में दिखे. उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ का नजरिया अरब देशों के आतंकी संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड जैसा है.Also Read - बिहार के पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने कहा, मोदीजी, 15 दिन के लिए जम्मू-कश्मीर बिहारियों को सौंप दीजिए, फिर देखिए

Also Read - Kerala Rains & Landslide Update: बाढ़ और भूस्‍खलन से मौतों का आंकड़ा 21 हुआ, PM मोदी ने दुख जताया

लंदन के इंटरनेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ स्‍ट्रेट्जिक स्‍टडीज में बोलते हुए राहुल ने कहा, आरएसएस भारत का स्‍वरूप बदलना चाहती है. वह देसी संस्‍थानों पर कब्‍जा करना चाहती है. देश में किसी अन्‍य संगठन का नजरिया ऐसा नहीं है लेकिन आरएसएस के कामकाज का तरीका वैसा ही है, जैसा अरब देशों में मुस्लिम ब्रदरहुड संगठन का है. Also Read - संघ प्रमुख मोहन भागवत ने दशहरा भाषण में OTT कंटेंट, Bitcoin और ड्रग्‍स पर जताई चिंता, सरकार से की यह अपील...

मेनका का AI को निर्देश: पुरुष कर्मचारियों को बनाएं संवेदनशील ताकि महिलाओंं में न हो डर

मोदी सरकार की विदेश नीति की आलोचना करते हुए राहुल ने बताया कि कूटनीतिक मामलों में सरकार की रणनीति ही स्‍पष्‍ट नहीं है. पाकिस्‍तान के मामले में भी सरकार का रुख स्‍पष्‍ट नहीं है. चीन के साथ डोकलाम विवाद की चर्चा करते हुए उन्‍होंने कहा कि इस विवाद को टाला जा सकता था. उन्‍होंने यह भी जोड़ा कि सरकारी दावों के विपरीत डोकलाम में अभी भी चीनी सैनिक मौजूद हैं.

व्यंग्यः जब ‘स्वर्ग’ में गांधी और नेहरू से मिले वाजपेयी…

इससे पहले बर्लिन में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए राहुल ने कहा था कि वे समाज को बांटकर और नफरत फैला कर देश को कमजोर कर रहे हैं. गुरुवार को बर्लिन में इंडियन ओवरसीज कांग्रेस द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस की कार्यशैली नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज के तरीके से बिल्कुल अलग है. राहुल ने कहा, “देश को आगे ले जाने के लिए हमारा काम लोगों को साथ लाना है और हमने ऐसा किया है.”