नई दिल्ली: दिल्ली के एक कॉन्वेंट स्कूल के नौवीं कक्षा की छात्रा एनायस जोसमॉन (14) आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पुस्तक‘ एग्जाम वारियर्स’ का चेहरा बन गई है, जो परीक्षाओं के दबाव से निपटने के उपाय संबंधी विषयों पर आधारित है. गौरतलब है कि गणित की परीक्षा में फेल हो जाने के बाद घर से भाग गई इस छात्रा को रेलवे ने बचाया था. शनिवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उससे मिलकर एग्‍जाम वारियर्स किताब भेंट की. Also Read - 26 जनवरी को परेड निकालेंगे प्रदर्शनकारी किसान, बोले- आंदोलन का समर्थन करने वालों के खिलाफ मामले दर्ज कर रही NIA

लड़की की मां इवोन पीटर्स ने बताया कि गणित में पास अंक लाने में असमर्थता से उदास जोसमॉन आठ मार्च को घर से निकल गई थी. वह चेन्नई जाने के लिए निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से तमिलनाडु एक्सप्रेस में बैठी, जहां उसकी योजना बाइबिल की कक्षा में दाखिला लेने की थी. शुक्रवार को उसे भोपाल रेलवे स्टेशन से बचाया गया. आज वह14 वर्षीय लड़की रेल मंत्री पीयूष गोयल से मिलने गई, जिन्होंने उसे प्रधानमंत्री द्वारा लिखी गई पुस्तक‘ एग्जाम वारियर्स’ दिया.

दाई का काम करने वाली पीटर्स (45) ने बताया कि उसकी बेटी गणित में अच्छी नहीं है और वह अपनी पिछली परीक्षा में भी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी. उनका कहना है कि उसका स्कूल भी इस मामले में उसकी ज्‍यादा मदद नहीं कर पाया. पीटर्स ने कहा,‘‘ स्कूल को कोई परवाह ही नहीं होती. शिक्षकों ने हमसे बात तक करने से मना कर दिया. काश मैं इस बारे में मंत्री को बता पाती. यह बहुत बड़ी समस्या है, जो छात्रों को प्रभावित करती है.’’ उन्होंने कहा कि उनकी बेटी 36 घंटे बाद घर लौटी.

रेल मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘ नई दिल्ली के एनायस जोसमॉन से मिला, जो परीक्षा के दबाव की वजह से अपने घर से भाग गई थी और उसे ठीक समय पर रेलवे ने बचा लिया और उसे उसके परिवार से मिलाया. उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी पुस्तक एग्जाम वारियर्स भी दिया और उससे कहा कि एग्जाम वारियर बनो, वरीयर( चिंता करने वाला) नहीं.’’ रेलवे मंत्रालय ने लापता बच्चों को बचाने की मुहिम‘‘ ऑपरेशन मुस्कान’’ के दायरे में अपने सभी प्रमुख स्टेशनों को रखा है.