नई दिल्ली: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि अगर गूगल जैसी निजी दिग्गज कंपनियों के साथ साझेदारी में सफलता मिलती है तो अगले चार महीनों में रेलवे नेटवर्क के सभी 6,000 स्टशनों पर मुफ्त वाईफाई कनेक्शन उपलब्ध कराए जा सकेंगे. गूगल कल्चरल इंस्टीट्यूट के सहयोग वाली ‘द रेलवेज- लाइफलाइन ऑफ द नेशन’ परियोजना के शुभारंभ पर उन्होंने कहा 711 रेलवे स्टेशनों पर पहले से ही मुफ्त वाईफाई है और उनका लक्ष्य अगले चार महीनों में 6,000 स्टेशन के आकड़ों तक पहुंचने का है. Also Read - Google ने Doodle के जरिए किया महिला शक्ति को सलाम, ऐसे मनाया अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

उन्होंने कहा, “गूगल ने रेलवे के साथ मिलकर 400 से ऊपर स्टेशनों पर मुफ्त वाईफाई सुविधा उपलब्ध कराई है. यह दिखाता है कि साझेदारी में कितनी ताकत है और लोगों की सेवा के लिए इसे कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है. Also Read - Leap Day के मौके पर Google ने बनाया स्पेशल Doodle, जानिए क्यों 4 साल में एक बार आता है 29 फ़रवरी?

गोयल ने कहा, “हमें इसे सभी 6000 स्टेशनों तक पहुंचाना है ताकि स्टेशन के आस-पास रहने वाले स्थानीय लोग खासकर गरीब या समाज के वंचित वर्गों के लोग देश के विकास का स्वाद ले सकें.” इसे संभव बनाने के लिए उन्होंने साझेदारी की जरूरत पर प्रकाश डाला और अन्य स्टेशनों पर भी मुफ्त वाईफाई सुविधा देने के लिए गूगल से रेलवे के साथ साझेदारी करने की अपील की. Also Read - Google में कर्मचारियों के बढ़ते असंतोष के बीच एचआर प्रमुख ने दिया इस्तीफा

ट्रेन यात्रियों के लिए जरूरी खबर, 1 सितंबर से रेलवे आपकी जेब पर ऐसे डालेगा असर

कुछ दिन पहले रेल मंत्री ने कहा था कि भारतीय रेल ने स्मार्ट तरीके से सोचना, योजना बनाना और काम करना शुरू कर दिया है. मेरा मानना है कि यही वो बदलाव है जो आपने पिछले चार साल में महसूस किया है. रेलों के समय पर चलने के बारे में गोयल ने कहा कि एक अप्रैल से अब तक रेलों का समय पालन बेहतर होकर 73-74% हो गया है. रेलवे ने अब स्टेशन मास्टर द्वारा हाथ से भरी जाने वाली समयसारिणी की व्यवस्था को बंद कर दिया है. अब इसे कंप्यूटरीकृत आंकड़ों से तैयार किया जाता है.

दुर्घटना रोकने के लिए रेलवे ला रही स्मार्ट कोच, विमान की तरह होंगे ब्लैक बॉक्स

उन्होंने कहा था, हम हर इंजन पर जीपीएस लगाने की दिशा में काम कर रहे हैं, ताकि हर रेल की वास्तविक समय में जानकारी मोबाइल फोन पर मिल सके. उन्होंने कहा कि रेलवे हर साल दो अरब डॉलर की बचत करने की दिशा में भी काम कर रहा है, नहीं तो इसका बोझ भी यात्रियों पर ही पड़ता. इसके लिए वह अपने कामकाज को अधिक दक्ष बना रहा है.