नई दिल्ली : पिछले पांच महीनों के दौरान आग लगने के 15 मामलों को लेकर रेलवे बोर्ड ने चिंता जताई है. बोर्ड ने सभी जोनल कार्यालयों को पत्र लिख कर कहा है कि रेल के इंजनों एवं डिब्बों के खराब रख-रखाव और देख-रेख की कमी के चलते पिछले पांच महीनों के दौरान आग लगने के 15 मामले सामने आए हैं. बोर्ड ने रेलवे के जोनल कार्यालयों को सुधारात्मक कदम उठाने के निर्देश दिए हैं ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाएं कम से कम हों. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: भाजपा के मेनिफेस्टो पर मचा बवाल, तो BJP ने किया पलटवार

Also Read - Women IPL: टी20 चैलेंजर्स के लिए UAE पहुंची हरमनप्रीत, स्‍मृति और मिताली की टीमें, इस तारीख से होगा टूर्नामेंट

UP: आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेन की बोगी में लगी आग Also Read - दिल्ली सरकार के कर्मचारियों के लिए त्योहारी तोहफा, मिलेगा 36 और 20 हजार का LTC

सभी जोनल महाप्रबंधकों को संबोधित पत्र में कहा गया कि इस तरह की घटनाएं रेल के इंजन एवं डिब्बों के रखरखाव में लापरवाही और शिथिलता दर्शाती हैं. इस संबंध में समुचित कार्रवाई की जरूरत है. पत्र में कहा गया है कि पिछले पांच महीनों में जोनल रेलवे में आग की दुर्घटना / घटना के 15 मामलों की सूचना मिली है. इसमें लोकोमोटिव, सवारी डिब्बे और माल ढोने वाले डिब्बे शामिल हैं. इनमें आपराधिक गतिविधियां, रेल के इंजन एवं डिब्बों के समुचित रख-रखाव में कमी और प्रतिबंधित सामानों को चढ़ाने जैसे कई कारण शामिल हैं.

बोर्ड द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया है कि यह घटनाएं अपर्याप्त सुरक्षा, ट्रेनों में चढ़ाई जा रही वस्तुओं की निगरानी में लापरवाही और डिब्बों के देख-रेख की कमी की तरफ इशारा करती हैं. बोर्ड ने सभी जोनल महाप्रबंधकों को रख-रखाव के क्षेत्र में सावधानी बरतने और आवश्यक ठोस कदम उठाने को कहा है साथ ही बोर्ड ने भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न होने देने के लिए भी चेताया है.

(इनपुट एजेंसी )