नई दिल्‍ली: रेलवे टिकटों की बुकिंग से जुड़े प्रावधानों में बड़ा बदलाव कर सकता है. रोचक यह है कि जिस रिपोर्ट में बदलाव के सुझाव दिए गए हैं, उसमें वे सुझाव भी शामिल हैं जो रेलवे के सबसे बड़े टिकटिंग घोटाले के मुख्‍य आरोपी ने दिए हैं.

रेलवे की ताजा रिपोर्ट को मंजूरी मिली तो रेलवे की टिकट बुकिंग के लिए आधार कार्ड अनिवार्य हो सकता है. सोमवार को सेंटर फॉर इंफॉर्मेशन रेलवे सिस्‍टम के अधिकारी मुंबई में रेलवे के सबसे बड़े घोटाले के मुख्‍य आरोपी माने जा रहे सलमान खान से पूछताछ के लिए जमा हुए थे. सलमान को 2 मई को गिरफ्तार किया गया था. उसके पास से 6 हजार से ज्‍यादा ई-टिकट भी जब्‍त किया गया था, जिसकी कुल कीमत करीब 1.5 करोड रुपए थी. सलमान देशभर के 5400 एजेंट्स से जुड़ा था. अपने बुकिंग सॉफ्टवेयर के बदले वह उनसे हर महीने 700 रुपए वसूलता था. पूछताछ के दौरान इंडियन रेलवे कैथ्‍रिंग एंड टूरिज्‍म कॉर्पोरेशन तथा सेंट्रल रेलवे के अधिकारी भी मौजूद थे. इसके बाद सेंटर फॉर इंफॉर्मेशन रेलवे सिस्‍टम्‍स तथा आईआरसीटीसी के के टेक्निकल हेड ने एक संयुक्‍त रिपोर्ट पेश किया. इस रिपोर्ट में आरोपी द्वारा टिकटिंग रैकेट को खत्‍म करने के सुझाव भी शामिल हैं.

मुंबई मिरर की खबर के मुताबिक रिपोर्ट में बताया गया है कि जब्‍त किए गए 6603 टिकटों को जिन 6449 आईडी से बुक किया गया था, उन्‍हें डिएक्टिवेट कर दिया गया है. इसके अलावा 1510 इससे मिलती-जुलती आईडी भी डिएक्टिवेट कर दिए गए हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि यात्रियों की यूजर आईडी को आधार से जोड़ा जाना चाहिए. सूत्रों के मुताबिक रेलवे इस सुझाव को मान सकती है. एक सुझाव यह भी है कि बुक नाऊ बटन दबाने के बाद ओटीपी का प्रावधान किया जाए. इससे ऑटोमेटेड प्रक्रिया ज्‍यादा सुरक्षित होगी.

रिपोर्ट में यह भी सुझाव दिया गया है कि आरोपी ने जिन एजेंट्स को सॉफ्टवेयर बेची थी, उनके यहां छापा मारा जाए. पूछताछ के दौरान सलमान ने आईपी एड्रेस को सीमित करने का सुझाव दिया था. मौजूदा व्‍यवस्‍था में आईपी एड्रेस पर कोई बंधन नहीं है. सलमान ने सुझाव दिया था कि एक आईपी से एक बार में एक या दो टिकट करने की ही छूट होनी चाहिए. रेलवे इस सुझाव पर भी विचार कर रही है.