नई दिल्ली. साल 2019 में भारतीय रेलवे यात्रियों को अनोखा गिफ्ट देने जा रही है. जी हां, रेलवे ने यात्रियों को अलहदा अंदाज में New Year Gift देने की योजना बनाई है. दरअसल, भारतीय रेलवे अगले साल से उत्तर भारत में पहली वातानुकूलित (एसी) लोकल ट्रेन उतारने जा रही है. अभी तक महानगरों के भीतर ही एसी लोकल ट्रेन चलाई गई है. लेकिन अगले साल से पटरियों पर उतरने वाली यह एसी लोकल ट्रेन तेज रफ्तार पसंद यात्रियों के लिए किसी सौगात से कम नहीं होगी. रेलवे की योजना दिल्ली से कम दूरी की यात्रा करने वाले मुसाफिरों के लिए अत्याधुनिक ट्रेन चलाने की है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी. सूत्रों ने बताया कि MEMU (मेनलाइन इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट) ट्रेन में स्टेनलेस स्टील के आठ डिब्बे होंगे. यह दिल्ली से 200-300 किलोमीटर दूर स्थित उत्तर प्रदेश के शहरों तक चलेंगी.

उन्नत एमईएमयू वातानुकूलित ट्रेनें 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती हैं. इनके पिछले संस्करण की गति 100 किलोमीटर प्रति घंटे थी. वहीं नई ट्रेन में 2,618 यात्रियों की क्षमता है, जबकि मौजूदा ट्रेन में 2,402 मुसाफिर ही आ सकते हैं. इन्टीग्रल कोच फैक्टरी (ICF) के महाप्रबंधक सुधांशु मणि ने बुधवार को कहा कि सभी आठ डिब्बों में दो-दो शौचालय होंगे. जीपीएस से जुड़ी सूचना प्रणाली होगी, स्वाचलित दरवाजे और गद्देदार सीटें होंगी. साथ ही सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी. चेन्नई की इन्टीग्रल कोच फैक्टरी से ऐसी पहली वातानुकूलित लोकल ट्रेन को परीक्षण के लिए भेजा जाएगा. दिल्ली से 200-300 किलोमीटर की दूरी के बीच स्थित यूपी, उत्तराखंड या राजस्थान और हरियाणा के शहरों से रोजाना यात्रा करने वाले मुसाफिरों के लिए यह ट्रेन निश्चित रूप से सुविधाजनक होगी.

ICF के जीएम सुधांशु मणि ने कहा कि हमने रेलवे बोर्ड से इस ट्रेन को उत्तर रेलवे को आवंटित करने का अनुरोध किया है. यह ट्रेन दिल्ली में होगी और वहां से अन्य शहरों के लिए चलेगी. लोकल ट्रेनों का परीक्षण दो महीने से भी कम वक्त में पूरा होने की उम्मीद है. इसके बाद फरवरी के शुरू से यह चलना प्रारंभ करेंगी. आपको बता दें कि उत्तर रेलवे पहले से ही दिल्ली-मेरठ के बीच हाईस्पीड रेल कॉरीडोर के निर्माण पर काम कर रही है. मगर इससे पहले इस रूट में तेज रफ्तार एसी लोकल ट्रेन चलने से दिल्ली से मेरठ के बीच रोजाना सफर करने वाले यात्रियों को सुविधा होगी. इस ट्रेन से जहां एक तरफ यात्रियों का समय बचेगा, वहीं उन्हें आरामदायक सफर का आनंद भी मिलेगा.

(इनपुट – एजेंसी)