Latest Weather Update Today: पिछले कई दिनों से तेज बारिश का कहर झेल रहे महाराष्ट्र को राहत मिलती दिखाई दे रही है. मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र में अगले 3-4 दिनों तक अत्यधिक भारी वर्षा नहीं होगी. इसके अलावा जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में भी बारिश की रफ्तार कम हुई है. आईएमडी के सीनियर साइंटिस्ट आरके जेनामणि ने गुरुवार को बताया, “जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में बारिश कम हुई है. उत्तराखंड में भारी बारिश हो सकती है, लेकिन अगले 24 घंटों के दौरान यह कम हो जाएगी. वहीं अगले 3-4 दिनों तक महाराष्ट्र और प्रायद्वीपीय रेंज में अत्यधिक भारी वर्षा नहीं होगी. हालांकि दिल्ली में बारिश जारी रहेगी; आसमान में बादल छाए रहने की संभावना है.”Also Read - PM Cares Fund सरकारी कोष नहीं है: PMO के अधिकारी ने हाईकोर्ट को बताया

राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को मध्यम बारिश होने की संभावना है और सुबह न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विज्ञानियों ने बताया कि सुबह साढ़े आठ बजे सापेक्षिक आर्द्रता 94 प्रतिशत दर्ज की गयी. मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार, अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस के आसपास रह सकता है. Also Read - Mumbai: नेता के ऑफिस में कार्यकर्ता के यौनशोषण का आरोप, शिवसेना नेत्री ने पूछा- अब कहां हैं भाजपा के नेता

दिल्ली की वायु गुणवत्ता बृहस्पतिवार सुबह ‘‘संतोषजनक’’ श्रेणी में दर्ज की गयी. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक, सुबह आठ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक 59 दर्ज किया गया. शून्य से 50 के बीच के एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच को ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच को ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच को ‘खराब’, 301 से 400 के बीच को ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के बीच को ‘गंभीर’ माना जाता है. Also Read - Delhi Weather Forecast: दिल्ली में 5 दिनों तक होगी हल्की से मध्यम बारिश, AQI में भी होगा सुधार

हिमाचल में आई बाढ़ में 9 की मौत, 7 लापता

हिमाचल प्रदेश में पिछले 24 घंटों में दो स्थानों पर अचानक आई बाढ़ में कम से कम नौ लोगों की मौत हो गई और सात लापता हो गए हैं. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. जिला मुख्यालय केलांग से करीब 15 किलोमीटर दूर लाहौल-स्पीति जिले के उदयपुर अनुमंडल में तोजिंग नाले (छोटी नदी) में अचानक आई बाढ़ में सात बह गए.

वहीं दूसरी ओर चंबा जिले में दो लोगों की मौत हो गई. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के विशेष सचिव सुदेश मोख्ता ने मीडिया को बताया कि लाहौल-स्पीति में अचानक आई बाढ़ से लापता तीन लोगों का पता लगाने के लिए तलाशी अभियान जारी है और दो को बचा लिया गया है.

कुल्लू जिले के मणिकर्ण में उफनती पार्वती नदी में दिल्ली के एक पर्यटक समेत चार लोगों की डूबने से मौत हो गई है. रिपोटरें में कहा गया है कि मनाली-लेह राजमार्ग पर भी बड़े पैमाने पर भूस्खलन के कारण यातायात बाधित हुआ. हाईवे पर सैलानियों समेत कई वाहन फंस गए हैं. मंडी शहर से आगे कई जगहों पर भूस्खलन के कारण चंडीगढ़ से मंडी-कुल्लू-मनाली राष्ट्रीय राजमार्ग भी बाधित हो गया.

महाराष्ट्र में घट रहा बाढ़ का पानी, 213 लोग गंवा चुके जान, 53 हजार से अधिक बेघर

श्चिमी और तटीय महाराष्ट्र में बाढ़ का पानी एक हफ्ते बाद धीरे-धीरे कम हो रहा है. इस बीच राज्य में भारी बारिश, बाढ़ और भूस्खलन के कारण बुधवार को मरने वालों की संख्या बढ़कर 213 हो गई. प्रदेश में 53,295 लोग बेघर हो गए हैं और 349 राहत शिविरों में रह रहे हैं. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) ने यह जानकारी दी.

एसडीएमए ने कहा कि कम से कम 8 लोग अब भी लापता हैं और 52 लोगों का मुंबई और जिलों के विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है. बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के पुनर्वास के कठिन कार्य का सामना कर रही राज्य सरकार ने कहा कि राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) के तहत आपातकालीन राहत अभियान शुरू किया गया है.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल ने फैसला किया कि चूंकि कई क्षेत्रों में बाढ़ का पानी अभी तक कम नहीं हुआ है, इसलिए अतिरिक्त राहत प्रदान करने का निर्णय लिया गया है. इस बीच, सभी क्षेत्रों में हुई तबाही का सर्वेक्षण और पंचनामा प्राथमिकता के आधार पर लिया गया है और लोगों को घरेलू सामान, कपड़े, बर्तन आदि के रूप में आपातकालीन सहायता पहुंचाई जा रही है.

(इनपुट एजेंसीज)