हैदराबाद: तेलंगाना में पिछले दो दिन से हो रही बारिश के चलते शुक्रवार को कई निचले इलाके जलमग्न हो गए और सड़क संपर्क प्रभावित रहा. भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Dept) ने राज्य तीन जिलों में रेड अलर्ट कुमुराम भीम, जगतियाल, वारंगल और 9 जिलों ऑरेंज अलर्ट अलर्ट जारी किया है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि निर्मल तथा अन्य जिलों में राहत अभियान शुरू किया गया है. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के जवानों (NDRF teams) ने निजामाबाद जिले के एक आश्रम में फंसे सात लोगों के समूह को बचाया.Also Read - IND vs SA Weather Report: क्या बारिश बदल सकती है मैच का रुख, जानिए टॉस के समय कैसा रहेगा मौसम का हाल। Watch Video

Also Read - पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में 24 घंटे में हुई भारी बारिश, सड़कों पर दिखे ऐसे नजारे

तेलंगाना में लगातार बारिश के बाद सिरिसिला जिला कलेक्ट्रेट परिसर जलमग्न हो गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने राज्य तीन जिलों में रेड अलर्ट कुमुराम भीम, जगतियाल, वारंगल और 9 जिलों ऑरेंज अलर्ट अलर्ट जारी किया है. Also Read - School Closed: भारी बारिश के कारण इन राज्यों में कई स्कूल हुए बंद, प्रशासन ने जारी किया ये निर्देश

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कुमुराम भीम आसिफाबाद जिले के वनकिडी में 39 सेंटीमीटर बारिश हुई, इसके बाद आसिफाबाद में (30 सेंटीमीटर) ,निर्मल जिले के सारंगपुर में (21 सेंटीमीटर) बारिश हुई. जगतियाल, निर्मल, निजामाबाद और वारंगल ग्रामीण में कई इलाकों में बहुत अधिक बारिश हुई.

तेलंगाना के निजामाबाद जिले के सावेल गांव में अचानक आई बाढ़ के कारण वृद्धाश्रम में लोग फंसे थे. राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीमों ने 7 लोगों को बचाया है.

तेलंगाना में लगातार दूसरे दिन बारिश होने से बृहस्पतिवार को सामान्य जीवन प्रभावित रहा, बारिश के कारण निचले इलाकों में पानी भर गया और सड़क संपर्क बाधित हो गया. मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने बारिश से पैदा हुए हालात पर अधिकारियों के साथ बृहस्पतिवार को बैठक की और उन्हें सतर्क रहने और यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को बारिश से कठिनाई का सामना न करना पड़े.

राज्य के सड़क एवं भवन मंत्री वेमुला प्रशांत रेड्डी ने अभियान की निगरानी की. आश्रम में फंसे लोगों को शुक्रवार तड़के बचाया गया. राज्य की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री सत्यवती राठौड़ ने शुक्रवार को महबूबाबाद के जिला अधिकारियों के साथ बैठक की और जलाशय व अन्य जलस्रोत अपने बंध न तोड़ें इसके लिये इंतजाम करने के निर्देश दिए.