राजस्थान में कांग्रेस पार्टी को स्पष्ट बहुमत मिलने के बाद उसके प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का घर माने जाने वाले दौसा जिले में कांग्रेस के प्रदर्शन की चर्चा होने लगी है. वैसे तो सचिन खुद टोंक सीट से चुनाव पड़ रहे हैं लेकिन सबकी निगाहें दौसा की विधानसभा सीटों पर भी है. दौसा में विधानसभा की कुल आठ सीटें हैं. इनके नाम हैं बस्सी (Bassi), चाकसू (Chaksu), थानागाजी (Thanagazi), बांदीकुई (Bandikui), महुआ (Mahuwa), सिकराई (Sikrai), दौसा (Dausa), लालसोट (Lalsot). Also Read - Rajasthan Panchayat-Zila Parishad Election Results: पंचायत और जिला परिषद चुनाव में कांग्रेस को बड़ा झटका, भाजपा ने 1,911 सीटों पर मारी बाजी

बस्सी (Bassi)- यहां से निर्दलीय उम्मीदवार लक्ष्मण मीणा भाजपा के कन्हैयालाल से 39 हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं. यहां से पिछले चुनाव में भी निर्दलीय उम्मीदवार अंजू देवी विजयी हुई थीं.
चाकसू (Chaksu)- यहां से कांग्रेस के देव प्रकाश सोलंकी (VED PRAKASH SOLANKI) भाजपा के रामअवतार बैरवा (RAMAVATAR BAIRWA) से एक हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं.
थानागाजी (Thanagazi)- यहां के निर्दलीय उम्मीदवार कांति प्रसाद (KANTI PRASAD) एक दूसरे निर्दलीय हेम सिंह से 29 हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं.
बांदीकुई (Bandikui)- यहां से कांग्रेस के गजराज खटाना (GAJRAJ KHATANA) भाजपा के रामकिशोर सैनी (RAM KISHOR SAINI) से चार हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं.
महुआ (Mahuwa)- यहां से निर्दलीय ओम प्रकाश हुडला (OM PRAKASH HUDLA) भाजपा के राजेंद्र (RAJENDRA) से नौ हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं.
सिकराई (Sikrai)- यहां से कांग्रेस की ममता भुपेश (MAMTA BHUPESH) भाजपा के विक्रम बंसीवाल (VIKRAM BANSIWAL) से 32 हजार वोटों से आगे चल रहे हैं.
दौसा (Dausa)- यहां से कांग्रेस मुरारीलाल (MURARI LAL) भाजपा के शंकरलाल शर्मा (SHANKAR LAL SHARMA) से 50 हजार से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं.
लालसोट (Lalsot)- यहां से कांग्रेस के परसादी लाल (PARSADI LAL) भाजपा के रामबिलास (RAMBILAS) से 6800 से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं. Also Read - 'राजस्थान में फिर शुरू होने वाला है सरकार गिराने का खेल', CM गहलोत बोले- हमारे विधायकों को बैठाकर चाय-नमकीन खिला रहे अमित शाह

Also Read - सचिन पायलट हुए कोरोना संक्रमित, ट्वीट कर बोले- जो लोग मुझसे मिले वे कराएं कोरोना टेस्ट