जयपुरः राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा एक दूसरे को पटखनी देने के लिए लगातार अपनी रणनीति बदल रही है. इसी क्रम में भाजपा ने कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट को घेरने की नई रणनीति बनाई है. पार्टी ने टोंक विधानसभा सीट पर अपने प्रत्याशी को बदलते हुए वहां से यूनुस खान को मैदान में उतारा है. इस सीट पर खान का मुकाबला कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट से होगा.Also Read - अखिलेश यादव ने कहा- योगी आदित्यनाथ 24 घंटे काम करते हैं, फिर भी महंगाई-बेरोजगारी बढ़ी, Dial 100 तो...

Also Read - नागालैंड हिंसा: राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- सैनिक और आम लोग सुरक्षित नहीं, गृह मंत्रालय क्या कर रहा है?

भाजपा ने सोमवार को जारी प्रत्याशियों की अपनी अंतिम सूची में यूनुस खान का नाम टोंक सीट से शामिल किया. पार्टी ने इससे पहले यहां से मौजूदा विधायक अजित सिंह मेहता को उम्मीदवार बनाने की घोषणा की थी. लेकिन कांग्रेस ने जब मुस्लिम बहुल टोंक सीट से पायलट को उतारने की घोषणा की तो ये अटकलें लगाई जा रही थीं कि भाजपा यहां अपने प्रत्याशी को बदलकर यूनुस खान को उतार सकती है. Also Read - शराबबंदी सही है या नहीं... महिलाओं से पूछने निकलेंगे नीतीश कुमार, जल्दी ही यात्रा करेंगे

कमलनाथ के वीडियो पर पीएम मोदी का कमेंट, भड़की कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की शिकायत

दरअसल, वसुंधरा राजे सरकार में कद्दावर मंत्री रहे यूनुस खान इस समय डीडवाना से विधायक हैं. पार्टी ने अब तक जारी अपनी तीन सूचियों में उनका नाम ही शामिल नहीं किया था. अपनी पांचवीं सूची में पार्टी ने टोंक से मेहता व खेरवाड़ा से शंकर लाल खराड़ी का नाम वापस लिया है. मेहता की जगह यूनुस खान तथा शंकरलाल की जगह नानाला आहरी को प्रत्याशी बनाया है.

राहुल गांधी को ‘जादू दिखाने’ वाला शख्स, आज कैसे बन गया कांग्रेस का ‘चाणक्य’

इसके साथ ही पार्टी ने कोटपूतली से मुकेश गोयल, बहरोड़ से मोहित यादव, करौली से ओपी सैनी, केकड़ी से राजेंद्र विनायक व खींवसर से रामचंद्र उत्ता को उम्मीदवार घोषित किया है. राज्य की 200 विधानसभा सीटों के लिए सात दिसंबर को मतदान होगा. नामांकन का सोमवार यानी 19 नवंबर को आखिरी दिन है.

(इनपुट भाषा)