जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस के मुख्यमंत्री उम्मीदवार को लेकर जारी विवाद के बीच पार्टी महासचिव और राज्य के पार्टी प्रभारी अविनाश पांडेय ने शनिवार को यहां कहा कि चुनाव पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. राज्य में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं. पांडेय ने पार्टी नेताओं से कहा कि वे ऐसा कोई भी बयान जारी न करें, जिससे पार्टी का अनुशासन भंग होता हो. Also Read - नवजोत सिंह सिद्धू फिर बदलेंगे पार्टी! पंजाब में चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ थाम सकते हैं इस दल का दामन

Also Read - राजस्थान: अब कोरोना संक्रमित व्यक्ति के घर के आस-पास लगेगा कर्फ्यू, जानें क्या होंगे नियम

अविनाश पांडे ने कांग्रेस नेताओं को आगाह किया कि कोई भी कांग्रेसी नेता आगामी विधानसभा चुनाव से पहले गैरजरूरी बयान ना दें. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय नेतृत्व इस तरह की किसी भी टिप्पणी को गंभीरता से लेगा. पांडेय की टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब इसके ठीक पहले पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उदयपुर में पार्टी की एक बैठक में खुद को मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में पेश किया. गहलोत ने कहा, “राजस्थान के लोग एक चेहरे से परिचित हैं, जो 10 वर्षो तक मुख्यमंत्री रह चुका है. मुख्यमंत्री के इस चेहरे पर इससे अधिक और क्या स्पष्टीकरण क्या हो सकता है.” Also Read - Covid-19 Update in India: देश में 24 घंटे में रिकॉर्ड 8,380 केस सामने आए, मृतकों की संख्या 5 हजार के पार

कांग्रेस ने शुरू की एमपी, राजस्थान चुनाव की तैयारी, बनाई स्क्रीनिंग कमेटी

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वयोवृद्ध कांग्रेस नेता लालचंद कटारिया ने हाल ही में कहा था कि गहलोत का नाम पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया जाना चाहिए. पांडेय ने कहा, “कटारिया एक वरिष्ठ नेता हैं और हम सभी पार्टी को दिए उनके योगदान का सम्मान करते हैं. हम हाल में उनकी तरफ से जारी बयान पर उनके स्पष्टीकरण का भी इंतजार कर रहे हैं.