जयपुर: राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के उप नेता रमेश मीणा ने अपनी ही पार्टी के कुछ विधायकों पर सरकार से मिले होने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि विधानसभा में शुक्रवार के पूरे घटनाक्रम की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट को दी जाएगी. यदि सुनवाई नहीं हुई तो राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अवगत कराया जायेगा.Also Read - Rajasthan: विधानसभा में विवाह पंजीकरण संशोधन बिल-2021 पारित, बीजेपी ने बताया काला कानून, किया वॉकआउट

मीणा ने विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि सरकार का विरोध नहीं किया जा रहा है. कुछ विधायक सरकार से मिले हुए हैं, कौन सदन में बोलेगा, कौन नहीं, यह वही लोग तय करते हैं. किसी को सदन में बोलने नहीं दिया जाता. Also Read - Rajasthan Assembly Bypoll 2021: राजस्थान के विधानसभा उपचुनाव में किसका पलड़ा भारी? पढ़े पूरी रिपोर्ट

गौरतलब है कि शुक्रवार को सदन में भाजपा के वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी के बोलने के बाद अध्यक्ष कैलाश मेघवाल से बोलने की अनुमति मांगी, लेकिन अध्यक्ष ने उन्हें अनुमति नहीं दी. इस पर निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल और कांग्रेस के रमेश मीणा ने आसन की व्यवस्था का विरोध किया. वह तिवाड़ी के समर्थन में कुछ बोलना चाहते थे लेकिन नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी उन्हें बैठने का निर्देश देते हुए नजर आए. रमेश मीणा इसके बाद सदन से बहिर्गमन कर गए. घनश्याम तिवारी भाजपा के असंतुष्ट विधायकों में शामिल हैं और राजस्थान में वसुंधरा राजे सिंधिया की सरकार के खिलाफ खुलकर बोलते रहे हैं. Also Read - राजस्थान उपचुनाव में भाजपा के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का नाम गायब, ये है वजह