जयपुर: राजस्थान में बीजेपी को एक बड़ा झटका लगा है. पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे और शिव से भाजपा विधायक मानवेंद्र सिंह जसोल ने शनिवार को पार्टी से औपचारिक रूप से नाता तोड़ लिया और कहा कि वह आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. हालांकि, उन्होंने अपने आगे के राजनीतिक कदम के बारे में पत्ते अभी नहीं खोले हैं. इससे पहले दिन में बाड़मेर के पास पचपदरा में अपनी बहुप्रचारित रैली में भी मानवेंद्र ने ‘कमल का फूल, बड़ी भूल’ कहते हुए पार्टी से नाता तोड़ने का संकेत दिया. Also Read - 14 राज्यों में अब तक तबलीगी जमात के 647 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए: Health Ministry

पार्टी से रिश्ते के बारे में पूछे जाने पर मानवेंद्र ने कहा,‘मैं अब भाजपा में नहीं हूं.’ इसके साथ ही मानवेंद्र ने कांग्रेस के साथ जाने के सवाल का जवाब ना में दिया. इस स्वाभिमान रैली में बड़ी संख्या में राजपूत व अन्य वर्ग के लोग पहुंचे. रैली को संबोधित करते हुए मानवेंद्र ने कहा कि पार्टी आलाकमान व बड़े नेताओं के कहने पर वह साढ़े चार साल से धैर्य बनाए हुए थे, लेकिन अब धैर्य चुक गया है.

रैली में कांग्रेस जिंदाबाद के नारों के बीच मानवेंद्र ने ‘कमल का फूल, बड़ी भूल’ कहा. हालांकि उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों पर इतना ही कहा कि ‘लोगों की जो घोषणा है वह उसके साथ ही जाएंगे.’

मानवेंद्र और भाजपा के रिश्ते बीते चार साल से तल्ख बने हुए थे. इसकी शुरुआत 2014 के आम चुनाव में पार्टी द्वारा जसवंत सिंह जसोल को टिकट नहीं दिए जाने से हुई. राजस्थान में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होने हैं.