बीकानेर: राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में 35 करोड़ रुपए का गबन करने के आरोपी एक शिक्षक ने रविवार को अतिरिक्त सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट-प्रथम की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया. पुलिस कई दिनों से आरोपी शिक्षक की तलाश कर रही थी. न्यायालय ने आरोपी शिक्षक को 8 अगस्त तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है. पुरानी आबादी पुलिस थाने की पुलिस ने शिक्षक को गिरफ्तार किया.

पुरानी आबादी पुलिस थाने के अधिकारी दिगपाल सिंह ने बताया कि मुख्य खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में प्रतिनियुक्ति पर लिपिक का काम देख रहे शिक्षक ओम प्रकाश शर्मा को गिरफ्तार करने के बाद अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 8 अगस्त तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया.

उल्लेखनीय है कि आरोपी शारीरिक शिक्षक ओमप्रकाश शर्मा ने गत चार सालों में 172 फर्जी कर्मचारियों की कथित फर्जी सेवानिवृत्ति दिखाकर उपार्जित अवकाश के मद में अपने रिश्तेदारों और परिचितों के खाते में 35 करोड़ रुपए ट्रांसफर कर इस घोटाले को अंजाम दिया. टीचर ने दिखाया कि रिटायर हुए लोगों को उसने रुपए दिए हैं. जबकि ये कर्मचारी उसने कागजों पर ही नियुक्त किए और रिटायर भी करा दिया.

तीन तलाक कानून बनने का जश्न मना रही थी बीवी, नाराज शौहर ने ‘तलाक’ कहकर घर से निकाला