गाजियाबाद, 10 मार्च | केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) का प्रत्येक चार महीने पर सुरक्षा ऑडिट किया जाना चाहिए। इससे इस बल की खामियां पकड़ में आएंगी और उसे सुधारने में मदद मिलेगी। राजनाथ ने सीआईएसएफ के 46वें स्थापना दिवस पर यहां आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा, “प्रत्येक चार महीनों में एक विशेष सुरक्षा ऑडिट की जानी चाहिए ताकि इससे सीआईएसएफ की खामियां पकड़ में आएं और सुरक्षा बल को बेहतर बनाया जा सके।”  यह भी पढ़ें–नरेंद्र मोदी ने सीआईएसएफ जवानों को सलाम किया

उन्होंने आगे कहा कि सीआईएसएफ की आतंकवादी हमलों को विफल करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका है, जिन पर देश में महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। सीआईएसएफ द्वारा चलाए गए गुप्त अभियानों की प्रशंसा करते हुए राजनाथ ने कहा, “आंतकवाद को विफल करने में आपकी प्रमुख योग्यता आवश्यक है।”

देश में सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों की सुरक्षा के लिए सीआईएसएफ की स्थापना 1969 में की गई थी। आज परमाणु प्रतिष्ठनों, अंतरिक्ष एजेंसियों, हवाईअड्डों, दिल्ली मेट्रो और अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा की जिम्मेदारी 1.4 लाख सीआईएसएफ के जवानों पर है।