पटना, 14 अप्रैल | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने यहां मंगलवार को कहा कि राजनीति केवल सरकार बनाने के लिए नहीं की जानी चाहिए, बल्कि समाज और देश बनाने के लिए की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय जगत में भारत की धमक बढ़ी है। पटना के गांधी मैदान में भाजपा द्वारा आयोजित कार्यकर्ता समागम में आए भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह से लेकर जयप्रकाश नारायण की संपूर्ण क्रांति तक का जिक्र किया।

जयंती पर अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राजनाथ ने कहा, “मैं इनके जन्मदिवस पर उनकी आत्मा को आश्वस्त करता हूं कि जब तक भाजपा का अस्तित्व रहेगा, तब तक भारतीय लोकतंत्र की संसदीय शक्ति को दुनिया की कोई ताकत खत्म नहीं कर सकती।”  सिंह ने पिछले साल गांधी मैदान में हुए बम विस्फोट की घटना का जिक्र करते हुए इस घटना में मारे गए कार्यकर्ताओं को सलाम किया तथा उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि केंद्र में मोदी सरकार के आने से अंतर्राष्ट्रीय जगत में भारत की साख और धमक बढ़ी है। भारत के लोगों को सम्मान की नजर से देखा जा रहा है। विश्व जगत भारत को महाशक्ति के रूप में देख रहा है।यह भी पढ़ें– अस्पृश्यता मिटाने के लिए काफी कुछ करना बाकी : राजनाथ सिंह

उन्होंने बिहार की परीक्षाओं में कदाचार होने के मामले को लेकर सरकार की खिंचाई करते हुए कहा कि यहां योग्यता और क्षमता के साथ घिनौना कार्य किया जा रहा है। नौनिहालों को नकल की छूट दी जा रही है।  उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार बिहार को देश के अग्रणी राज्यों की श्रेणी में शामिल होते देखना चाहता है, इसके लिए लगातार मदद की जा रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बिहार और पश्चिम बंगाल के अत्यंत पिछड़े राज्य होने के कारण अतिरिक्त 20 हजार करोड़ रुपये की सहायता देने का निर्णय लिया है। यह भी पढ़ें– अमित शाह का दावा केंद्र की सत्ता में भाजपा 10-20 वर्षो तक रहेगी

सिंह ने कहा कि बिहार में पुराने समय में नालंदा विश्वविद्यालय था, लेकिन आज यहां के छात्रों को आज शिक्षा ग्रहण करने के लिए अन्य राज्यों में जाना पड़ रहा है। यहां उपज इतनी होती थी कि खाद्यान्न रखने के लिए गोलघर का निर्माण कराया गया था, लेकिन आज किसानों की हालत खराब है। आखिर इसके लिए जिम्मेवार कौन है?

उन्होंने कहा कि देश में किसी भी प्रकार का परिवर्तन हुआ है तो वह बिहार से हुआ है। उनकी नाराजगी किसी भी सरकार से नहीं है, लेकिन चाहते हैं कि बिहार का विकास हो। बिहार के मतदाताओं से उन्होंने बिहार में दो-तिहाई बहुमत देकर भाजपा की सरकार बनाने की अपील की।