Rajnath Singh9845Also Read - पंजाब में भारत-पाकिस्तान सीमा पर तस्करों से मुठभेड़ में BSF जवान घायल, 47 किलो हेरोइन बरामद

Also Read - Republic Day 2022: 384 वीरता पुरस्कारों का ऐलान, ओलंपिक गोल्‍ड विनर नीरज चौपड़ा को परम विशिष्‍ट सेवा मेडल मिलेगा

नई दिल्ली 22 मई: सीमा सुरक्षा बल (बीएसफ) को देश की प्रथम रक्षा दीवार बताते हुए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि अपने कर्तव्य पर जीवन न्योछावर करने वाले जवानों के परिवारों से मिलने के दौरान वह भावुक हो गए थे। राजनाथ ने सीमा सुरक्षा बल के 13वें अलंकरण समारोह को यहां संबोधित करते हुए कहा, “बीएसएफ रक्षा की पहली पंक्ति ही नहीं, बल्कि रक्षा की पहली दीवार भी है।” यह भी पढ़े:राष्ट्रपति से दिल्ली पर बात नहीं हुई : राजनाथ Also Read - BSF Constable Recruitment 2022: BSF में इन पदों पर नौकरी पाने का सुनहरा मौका, 10वीं पास करें आवेदन, 67000 से अधिक होगी सैलरी

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “सुरक्षा बलों में बलिदान का भाव तभी आता है जब राष्ट्रीय गौरव का भाव आता है।” उन्होंने कहा कि बीएसएफ एक ऐसा सुरक्षा बल है जहां पर सैनिकों को लगता है कि सीमा पर स्थित चौकियां उनके घरों से दूर एक घर ही हैं।”

राजनाथ ने पांच बीएसएफ जवानों को वीरता के लिए पुलिस पदक प्रदान किए और 25 अन्य जवानों को असाधारण सेवाओं के लिए पुलिस पदक दिए। बीएसएफ अलंकरण समारोह हर साल 22 मई को आयोजित किया जाता है। यह समारोह इसके संस्थापक के.एफ. रुस्तमजी की याद में आयोजित जाता है। रुस्तमजी का जन्म 1916 में आज ही के दिन (22 मई) हुआ था।