नई दिल्ली. लोकसभा में मुलायम सिंह यादव के दिए भाषण पर अमर सिंह ने प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह ने सिर्फ एक कंफ्यूजन पैदा करने के लिए बयान दिया है, जिससे चंद्रकला और रमा रमन केस में बचा जा सके. उन्होंने कहा कि दोनों अफसरों ने मुलायम और मायावती की सरकारों में नोएडा को लूटा है. ऐसे में मुलायम अपने बयान से सिर्फ ये चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी न्यूट्रल बने रहे और कोई एक्शन न लें.

बता दें कि मुलायम सिंह यादव ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि वह चाहते हैं कि नरेंद्र मोदी एक बार फिर पीएम बनें. उनकी इस बात पर पीएम मोदी भी मुस्कुराते नजर आए. वहीं, बीजेपी के अन्य संसद सदस्यों ने तालियां बजाईं. इस दौरान सोनिया गांधी भी मुस्कुराती हुई दिखीं. मुलायम ने समापन सत्र में बोलते हुए कहा कि ‘पीएम मोदी ने हमेशा मेरी मदद की है. मुलायम ने कहा कि पीएम मोदी को बधाई देना चाहता हूं कि उन्होंने सबको साथ लेकर चलने की कोशिश की है. मैं कहना चाहता हूं कि सारे सदस्य फिर से जीत कर आएं और आप दोबारा प्रधानमंत्री बनें.

PM मोदी का राहुल पर हमला, कहा- सुनते थे कि भूंकप आएगा, 5 साल में नहीं आया: देखें स्पीच का VIDEO

2008 बैच की आईएएस अधिकारी चंद्रकला उत्तर प्रदेश में कथित अवैध खनन धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जांच कर रही है. निदेशालय ने मामले में पूछताछ के लिए चंद्रकला और समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता रमेश कुमार मिश्रा और अन्य को समन जारी किया था. मिश्रा को 28 जनवरी को तलब किया गया है. ईडी अब इस मामले में धन के लेन-देन का पता लगा रहा है और देख रहा है कि इन मामलों में आरोपियों ने रिश्चत के रूप में कथित तौर पर प्राप्त अवैध धन को वैध तो नहीं बनाया है. निदेशालय आरोपियों की धन शोधन रोधी कानून के तहत कुर्क की जा सकने वाली चल एवं अचल संपत्ति के संबंध में भी जांच करेगा.

सोनिया गांधी के बगल में खड़े मुलायम ने कहा- नरेंद्र मोदी फिर बनें पीएम, यही मेरी इच्छा

14 स्थान पर मारे गए थे छापे
सीबीआई ने इस महीने की शुरुआत में 11 लोगों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के सिलसिले में 14 स्थानों पर छापे मारे थे. ये छापे 2012-16 के दौरान हमीरपुर जिले में अवैध खनन की जांच के सिलसिले में मारे गये थे. जिन लोगों के खिलाफ सीबीआई ने प्राथमिकी दर्ज की है उनमें चंद्रकला, मिश्रा और संजीव दीक्षित (दीक्षित ने बसपा टिकट पर 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ा और हार गए) शामिल हैं. सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया था कि जांच के दौरान राज्य के तत्कालीन खनन मंत्रियों की भूमिका की भी जांच की जाएगी.