लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा खाली किए गए सरकारी बंगले 4, विक्रमादित्य मार्ग में तोड़फोड़ की शिकायत मिलने के बाद राज्य संपत्ति विभाग सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों द्वारा खाली किए गए बंगलों की जांच करवाने जा रहा है. इसको लेकर विभाग ने इन बंगलों के सामानों की सूची बनानी शुरू कर दी है. इनका मिलान सरकारी रिकॉर्ड से किया जाएगा. गड़बड़ी पाए जाने के बाद सभी आवंटियों को नोटिस भेजा जाएगा.

अब इस बंगले में रहेंगे अखिलेश-मुलायम, सरकारी किया खाली, जिम भी तुड़वाया

राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारी योगेश शुक्ला ने बताया कि सभी खाली किए गए बंगलों का अपने रिकॉर्ड से मिलान करवाया जाएगा. सभी निर्माण व सामान का ब्यौरा विभाग के पास मौजूद है. यदि जांच में पता चलेगा कि तोड़फोड़ जानबूझकर की गई है और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया है, तो नोटिस और रिकवरी की कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि मौजूदा समय में यूपी के पूर्व सीएम व सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव के बंगले में तोड़फोड़ का मामला गरमया उठाया है. साथ ही वहां पर तोड़फोड़ की बात सामने आने पर राज्‍य संपत्ति विभाग ने ये कदम उठाया है.

अखिलेश पर बीजेपी का पलटवार, चाहे जिसके आगे घुटना टेके, अब उनकी दाल नहीं गलने वाली

जांच के बाद जारी होगा नोटिस
तमाम आरोप-प्रत्यारोप के बाद अब राजस्व विभाग ने खाली किए गए बंगलों की जांच करेगी. बंगलों की स्थिति की जांच की जाएगी. राजस्व विभाग के अनुसार- मुलायम सिंह यादव, राजनाथ सिंह, कल्याण सिंह, मायावती द्वारा खाली किए गए बंगलों की जांच कराई जाएगी. बंगलों में अगर कोई कमी या रिकॉर्ड में जो सामान वहां था, वो नहीं पाया जाता है तो फिर रिकवरी की जाएगी. इसके लिए नोटिस जारी किया जाएगा.