नई दिल्ली: राज्यसभा के उपसभापति पद पर गुरुवार को होने वाले चुनाव के लिेए सत्तापक्ष और विपक्ष के अधिकृत दोनों उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भर दिया है. विपक्ष की ओर से कांग्रेस के नेता बी के हरिप्रसाद को उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद इस पद के लिए चुनाव होना तय हो गया है. Also Read - एकनाथ खडसे ने भाजपा छोड़ कहा- देवेंद्र फडणवीस ने मेरा जीवन बर्बाद किया, NCP में शामिल होऊंगा

Also Read - वादा तेरा वादा.....बिहार चुनाव में लगी वादों की झड़ी, किस पार्टी ने जनता से क्या की है प्रॉमिस, जानिए

सत्तारूढ़ एनडीए की ओर से जेडीयू के हरिवंश को पहले ही उम्मीदवार घोषित किया जा चुका है. राज्यसभा सचिवालय के सूत्रों ने हरिवंश और हरिप्रसाद के नामांकन पत्र के नोटिस मिलने की पुष्टि की है. हरिवंश की ओर से राज्यसभा महासचिव कार्यालय को मंगलवार को ही नामांकन का नोटिस मिल गया था. Also Read - महाराष्ट्र में BJP को बड़ा झटका- एकनाथ खडसे ने छोड़ा पार्टी का साथ- NCP में होंगे शामिल?

राज्‍यसभा उपसभापति चुनाव: ट्विटर पर भिड़े उमर और महबूबा, इमोजी बने तंज कसने का जरिया

आज उन्होंने महासचिव देशदीपक वर्मा के समक्ष अपना नामांकन पत्र पेश किया. हरिप्रसाद की ओर से भी आज नामांकन पत्र पेश किया गया. उम्मीदवारी की घोषणा के बाद हरिप्रसाद ने कहा कि पार्टी ने निश्चित रूप से काफी सोच विचार के बाद यह फैसला किया होगा. उन्होंने चुनाव में सकारात्मक परिणाम मिलने का विश्वास व्यक्त किया.

इस बीस उच्च सदन में कांग्रेस उप नेता आनंद शर्मा ने जीत के लिए जरूरी मत मिलने का दावा करते हुए कहा कि संख्याबल उनके पक्ष में है. उन्होंने कहा कि किसी एक सदस्य के नाम पर सर्वानुमति नहीं बन पाने के कारण विपक्ष को चुनाव का विकल्प अपनाना पड़ा.

सोनल मानसिंह और राकेश सिन्हा समेत चार शख्सियत राज्यसभा के लिए मनोनीत

नामांकन पत्र पेश करने के बाद हरिवंश ने एनडीए की ओर से उन्हें उम्मीदवार बनाए जाने के लिए आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा ‘‘मैं उन सभी लोगों के प्रति आभारी हूं जिन्होंने मुझे इस योग्य समझा.’’

उल्लेखनीय है कि उपसभापति पद के लिए गुरुवार को सुबह 11 बजे मतदान होगा. काग्रेस के पी जे कुरियन के गत एक जुलाई को सेवानिवृत्त होने के बाद से यह पद रिक्त है. 244 सदस्यीय उच्च सदन में उपसभापति चुनाव को जीतने के लिए 123 मतों की आवश्यकता पड़ेगी.

यदि अन्नाद्रमुक (13), बीजद (9), टीआरएस (6) और वाईएसआर कांग्रेस (2) का समर्थन एनडीए को मिल जाता है तो उसके पास 126 मत हो जाएंगे. उच्च सदन में भाजपा के 73 और कांग्रेस के 50 सदस्य हैं. भाजपा के सहयोगी जदयू, शिवसेना और अकाली दल के क्रमश: छह और तीन- तीन सदस्य हैं.

(इनपुट: एजेंसी)