जयपुर: पूर्व मंत्री व पूर्व ओलंपियन राज्यवर्धन सिंह राठौड़ शुक्रवार को फेसबुक पर लाइव हुए और कहा कि मैं याद दिलाना चाहता हूं कि मैं राजनीति में क्यों आया हूं-चाहे मेरे पास पद रहे या न रहे इस तथ्य के बावजूद मैं राष्ट्र के लिए कुछ करना चाहता हूं. ये चुनाव जातिवाद पर राष्ट्रवाद की जीत है. Also Read - Central Cabinet Expansion: केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल की तैयारी! कांग्रेस छोड़कर आए सिंधिया को मिल सकता है मंत्री पद

Also Read - Central Cabinet: मॉनसून सत्र से पहले होगा केंद्रीय कैबिनेट का विस्तार! पीएम मोदी की टीम में कौन होंगे शामिल? लग रहे कयास

महिलाओं के सशक्तिकरण और बच्चों के कल्याण के लिए काम करने को प्रतिबद्ध: स्मृति ईरानी Also Read - Maharashtra CM Meets PM Modi: मराठा आरक्षण की आंच पहुंची दिल्ली? पीएम मोदी से मिलने PMO पहुंचे सीएम उद्धव ठाकरे

उन्होंने कहा, “मेरे जैसा व्यक्ति जिसका राजनीति में कोई गॉडफादर नहीं है, जिसकी चार पीढ़ियों ने सेना में सेवा की है, उसे किसी अन्य पार्टी से टिकट नहीं मिल सकता था.”

पहले दिन मोदी सरकार के 3 बड़े फैसले: शहीदों के बच्चों, किसानों और छोटे व्यापारियों को दिया तोहफा

उन्होंने कहा कि न सिर्फ टिकट यहां तक कि चुनाव जीतने के बाद मैं मंत्री नहीं बन सकता था. यह सिर्फ मोदी सरकार में ही संभव था, क्योंकि मेधावियों को बढ़ावा दिया जाता है. राठौड़, पूर्व सरकार में सूचना व प्रसारण व खेल राज्य मंत्री थे. उन्होंने जयपुर ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव जीता. उन्हें मोदी के गुरुवार को घोषित 57 सदस्यीय मंत्रिपरिषद में कोई विभाग नहीं मिला.