नई दिल्ली: श्री रामजन्म भूमि ट्रस्ट की तीन और चार मार्च को अयोध्या में प्रस्तावित बैठक टाल दी गई है. बैठक अब होली के बाद दिल्ली में होगी. ट्रस्ट के सूत्रों के मुताबिक, ट्रस्ट की बैठक सदस्यों की अनुपलब्धता और निर्माण समिति की तकनीकी टीम द्वारा आरंभिक ग्राउंड रिपोर्ट तैयार करने में लग रहे समय की वजह से टाल दी गई है. अब ये बैठक दिल्ली में होगी. इस बैठक में ही राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन की तारीख तय की जाएगी. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मंदिर निर्माण का काम लार्सन एंड टौब्रो को सौंपा गया है, जिसने मंदिर निर्माण के लिए मुफ्त में काम करने का प्रस्ताव दिया है. Also Read - Delhi में पब्लिक प्‍लेस में होने वाली शादियों पर बैन, सिर्फ शर्तों के साथ इजाजत, मेहमानों की संख्‍या सीमित

सुत्रों के मुताबिक अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तारीख की घोषणा दिल्ली की बैठक में ही होगी. सूत्रों की मानें तो दो अप्रैल को रामनवमी के बाद ही राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन तय होगा. भूमि पूजन में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल हो सकते हैं. ऐसे में उनकी उपस्थिति और शुभ मुहुर्त को ध्यान में रखते हुए तारीख का ऐलान किया जाएगा. इस संदर्भ में मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र अयोध्या का दौरा कर रविवार शाम दिल्ली लौट आए हैं. बताया जा रहा है कि वह प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर मंदिर निर्माण से जुड़ी रिपोर्ट देंगे. Also Read - Covid-19 Crisis: सबसे व‍िशाल कार्गो प्‍लेन में UK से ऑक्‍सीजन जनरेटर, वेंटिलेटर्स की बड़ी खेप भारत आई

नृपेंद्र मिश्र शुक्रवार को उत्तर प्रदेश गए थे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के बाद उन्होंने शनिवार को अयोध्या में राम जन्मभूमि परिसर का निरीक्षण किया था. उन्होंने रामलला के दर्शन किए और इंजीनियरों के साथ बैठक की. पहले इंजीनियरों की टीम तकनीकी परीक्षण करेगी और 25 मार्च तक निर्माण समिति को रिपोर्ट देगी. नृपेन्द्र मिश्र ने रविवार को ही भारत सरकार की कंपनी एनबीसीसी के पूर्व चेयरमैन और सीएमडी अरुण कुमार मित्तल और निजी क्षेत्र की निर्माण कंपनी लार्सन एंड टौब्रो के प्रमुख इंजीनियर दिवाकर त्रिपाठी के साथ बैठक की थी. Also Read - Delhi Lockdown Extension: दिल्ली में लॉकडाउन एक सप्ताह और बढ़ेगा! जानिए पाबंदियां जारी रखने को लेकर क्या बोले लोग