Also Read - बिहार में चुनावों के बीच कोरोना संक्रमितों की संख्या 2.09 लाख पहुंची, अब तक 1.97 हुए स्वस्थ

पटना, 23 नवंबर (आईएएनएस)| अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने रविवार को नसीहत देने वालों को दो टूक जवाब दिया कि वह किसी के सामने झुकने वाले नहीं हैं। पटना में एक समारोह में उन्होंने कहा, “मैं घबराने वालों में से नहीं हूं। टूट जाऊंगा मगर झुकने वाला नहीं हूं।” Also Read - Video चिराग बोले-PM Modi की तस्‍वीर की जरूरत नहीं, वह मेरे दिल में रहते हैं, मैं उनका हनुमान हूं

उन्होंने कहा, “अब बहुत से लोग मुझे नसीहत देने लगे हैं, लेकिन वे लोग जान लें कि मांझी काबलियत में किसी से कम नहीं है। जिसे जो कहना है कहे, मैं जो बोल रहा हूं उसे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़े वर्ग के लोग समझ रहे हैं।”  मांझी यहीं नहीं रुके, उन्होंने अपने अंदाज में कहा, “मैं काम का निष्पादन चाहता हूं आश्वासन नहीं, क्योंकि हम लोग खींच के नवंबर तक जाएंगे या बीच में ही कभी भी घसक सकते हैं।” Also Read - Bihar Assembly Election 2020: बिहार विधानसभा चुनाव में 'राम-रावण' की 'एंट्री'! जानिए क्या है मामला

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि वह जब तक रहेंगे, तब तक गरीबों का काम करते रहेंगे।  उल्लेखनीय है कि शनिवार को मुख्यमंत्री के विवादास्पद बयानों पर हो रही आलोचना के बीच जनता दल (युनाइटेड) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा था कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने मुख्यमंत्री को बोलते समय संयम बरतने की सलाह दी थी। उन्होंने हालांकि यह भी कहा था कि सलाह को चेतावनी के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।