नई दिल्ली. विश्व हिन्दू परिषद ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाए जाने की मांग करते हुए बुधवार को कहा कि इस मुद्दे पर अदालत के फैसले के लिए ‘हिन्दू अनंत काल तक इंतजार नहीं कर सकते.’ विहिप की यह टिप्पणी तब आई जब एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक साक्षात्कार में कहा कि राम मंदिर के लिए अध्यादेश पर फैसला न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही किया जा सकता है, लेकिन सरकार अपनी जिम्मेदारी पूरी करने के लिए सभी कदम उठाने को तैयार है.Also Read - Amar Jawan Jyoti: गणतंत्र दिवस 2022 से पहले अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की लौ में मिलाने का सरकार फैसला

प्रतीक्षा की अपेक्षा नहीं की जा सकती
विहिप के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने एक वक्तव्य में कहा कि सभी पहलुओं पर समग्र चिंतन के बाद विश्व हिन्दू परिषद का स्पष्ट मत है कि हिन्दू समाज से अनंत काल तक न्यायालय के निर्णय की प्रतीक्षा की अपेक्षा नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा, इसका एकमात्र उचित समाधान यही है कि संसद द्वारा कानून बनाकर श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का मार्ग अभी प्रशस्त किया जाए. Also Read - इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की भव्य प्रतिमा, फिलहाल होलोग्राम स्टैच्यू दिखेगा; जानें क्या है होलोग्राम तकनीक

अनंतकाल तक इंतजार नहीं कर सकता
कुमार ने कहा, हमने माननीय प्रधानमंत्री का श्रीराम जन्मभूमि संबंधी वक्तव्य देखा. जन्मभूमि का मामला गत 69 वर्षों से अदालतों में चल रहा है तथा इसकी अपील सर्वोच्च न्यायालय में वर्ष 2011 से लंबित है. प्रतीक्षा की यह एक लम्बी अवधि है. हिन्दू समाज अनंत काल तक इंतजार नहीं कर सकता. Also Read - Punjab Opinion Poll 2022 , Janta ka Mood: जानें पंजाब में किस पार्टी को फायदा, कौन सत्ता के कितने करीब