उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड ने एक बार फिर अयोध्या में ही राम मंदिर बनाने की वकालत की है. इस पर बातचीत आगे बढ़ाने को लेकर आज बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने बेंगलुरु में श्री श्री रविशंकर से मुलाकात की. रिजवी ने कहा कि इस मसले पर उन्हीं लोगों से बातचीत होनी चाहिए जो समझौते के पक्ष में हों. 

Shia Waqf board has filed an affidavit in Supreme Court in Ayodhya case | SC में शिया वक्फ बोर्ड का हलफनामा, अयोध्या में विवादित भूमि पर ही बने राम मंदिर

Shia Waqf board has filed an affidavit in Supreme Court in Ayodhya case | SC में शिया वक्फ बोर्ड का हलफनामा, अयोध्या में विवादित भूमि पर ही बने राम मंदिर

Also Read - लोनी में बुजुर्ग की पिटाई के Video का मामला: गाजियाबाद पुलिस ने Twitter India के MD को भेजा लीगल नोटिस

वसीम रिजवी ने इस मुलाकात के बाद बताया कि पूरा देश श्री श्री रवि शंकर का सम्मान करता है. मुझे उम्मीद है कि राम मंदिर मामला जल्द सुलझा लिया जाएगा. मैंने श्री श्री से गुजारिश की है कि इस मामले में उन्हीं लोगों से बातचीत होनी चाहिए जो समझौते के पक्ष में हैं. Also Read - Ghaziabad: बुजुर्ग से मारपीट का Viral Video मामले में सपा नेता उम्मेद पहलवान इदरीसी पर FIR दर्ज

रिजवी ने कहा कि इसे लेकर पूरी अवाम सहमत है. उन मौलानाओं को हम महत्व नहीं देते जो इस वक्त फसाद की बात कर रहे हैं. उनका कोई लीगल स्टेटस नहीं है. हमने सभी पक्षों से बातचीत की है. Also Read - डॉक्टर्स का कमाल: डायलिसिस पर रहते हुए महिला ने दिया बच्चे को जन्म, जिसने सुना वो रह गया हैरान

रिजवी ने कहा कि देश में शांति चाहने वाले इस कदम की तारीफ कर रहे हैं और जो हिंसा चाहते हैं इसका विरोध कर रहे हैं. रामजन्म भूमि पर अब कोई मस्जिद नहीं सिर्फ मंदिर है. वहां कई दूसरी मस्जिदें हैं जहां नमाज पढ़ी जा सकती है. अयोध्या, फैजाबाद की मस्जिदें वहां के मुस्लिमों के लिए काफी है. हम लोग शिया वक्फ की तरफ से बोल रहे हैं. हमने सभी पक्षों से बातचीत की है. 

Taj Mahal can be symbol of love but not of worship: W Rizvi | अय्याश थे मुगल, ताजमहल इबादत की जगह नहीं: शिया वक्फ बोर्ड

Taj Mahal can be symbol of love but not of worship: W Rizvi | अय्याश थे मुगल, ताजमहल इबादत की जगह नहीं: शिया वक्फ बोर्ड

बता दें कि राम मंदिर विवाद में श्री श्री ने मध्यस्थता की पहल की है. इसी सिलसिले में रिजवी ने उनसे मुलाकात की है. इससे पहले भी शिया वक्फ बोर्ड राम जन्मभूमि पर ही राम मंदिर बनाने का समर्थन कर चुका है. बोर्ड ने अयोध्या में बनने वाली विशाल राम मूर्ति के लिए चांदी के तीर देने का भी ऐलान किया था.