नयी दिल्ली: विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने रविवार को कहा कि केंद्र को अयोध्या में राममंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले पर त्वरित कार्रवाई करनी चाहिए. विहिप ने वास्तुकार चंद्रकांत सोमपुरा द्वारा तैयार किये गये डिजाइन के अनुसार मंदिर बनाने की भी मांग की.

अयोध्या पर ऐतिहासिक फैसला: पूजा से लेकर नमाज तक, सुप्रीम कोर्ट ने दिया हर सवाल का जवाब, फैसले की 17 बड़ी बातें

परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने पीटीआई भाषा से कहा कि प्रसिद्ध वास्तुकार सोमपुरा को 1989 में विहिप के तत्कालीन प्रमुख अशोक सिंघल ने डिजाइन तैयार करने को कहा था और उसे देश भर में श्रद्धालुओं के बीच वितरित किया गया था. कुमार ने कहा कि हमें उसी के अनुसार नये मंदिर के निर्माण की उम्मीद है. विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारियों के अनुसार पत्थरों और खंभों को को तराशने का काफी काम हो चुका है और उनका उपयोग मंदिर निर्माण में किया जाना चाहिए.

जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी बोले- अयोध्या के फैसले को नहीं दी जानी चाहिए चुनौती

सरकार से मंदिर निर्माण की दिशा में त्वरित कदम उठाने की अपील
उन्होंने कहा कि यहां विहिप के पदाधिकारियों की विशेष बैठक में सरकार से मंदिर निर्माण की दिशा में त्वरित कदम उठाने की अपील करने का निर्णय लिया गया. विहिप प्रवक्ता विनोद बंसल ने एक बयान में कहा कि इस फैसले के क्रियान्वयन के लिये केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार की भूमिकाएं भी निर्धारित की गई हैं. इन सरकारों के सतर्क रहने और अपनी जिम्मेदारियों के प्रति सक्रिय रहने में भरोसा जताते हुए उनसे त्वरित कार्रवाई करने का अनुरोध भी किया जाता है.

मनोज तिवारी ने विमानन मंत्री को लिखा पत्र, अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाने की मांग

अयोध्या में विवादित स्थल पर राममंदिर के निर्माण का आदेश
उन्होंने कहा कि सभी संतों, इतिहासकारों, न्यायविदों और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के विशेषज्ञों के प्रति आभार प्रकट करते हुए प्रस्ताव पारित किया गया, जिनके अथक परिश्रम से न्यायालय को इस फैसले पर पहुंचने में मदद मिली. उच्चतम न्यायालय ने शनिवार को अपने एक ऐतिहासिक फैसले में अयोध्या में विवादित स्थल पर राममंदिर के निर्माण का आदेश दिया.