नई दिल्ली, 13 फरवरी | मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के एक वर्ष बाद गुमनामी में चले गए आप (आम आदमी पार्टी) नेता अरविंद केजरीवाल शनिवार को रामलीला मैदान में एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। इस समारोह में उनके हजारों समर्थकों के जमा होने की संभावना है। अधिकारियों ने कहा दिल्ली के मध्य में स्थित मैदान को पूरी तरह से केजरीवाल (46) और उनके मंत्रियों के शपथ ग्रहण के लिए सजाया गया है। इससे पहले केजरीवाल ने दिसंबर 2013 में यहीं शपथ ली थी।

शपथ ग्रहण समारोह सुबह 11 बजे शुरू होने की उम्मीद है। केजरीवाल के विश्वासपात्र मनीष सिसोदिया के उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने का अनुमान है। उनके अलावा पांच और मंत्री भी शपथ ले सकते हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव में धमाकेदार जीत का नेतृत्व करने वाले केजरीवाल ने लोगों से बड़ी संख्या में समारोह में शामिल होने की अपील की है। समारोह स्थल पर आधा दर्जन से अधिक प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। यह भी पढ़ें– तो इसलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अरविंद केजरीवाल का न्योता ठुकरा दिया

मैदान के आखिरी हिस्से तक करीब 30,000 कुर्सियां बिछाई गई हैं। इस मैदान में बड़ी रैलियां होती रहती हैं। केजरीवाल और उनके मंत्रियों को शपथ लेते हुए देखने के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। 2013 के समारोह में 100,000 लोग जमा हुए थे। उपराज्यपाल नजीब जंग आप की नई सरकार को शपथ दिलाएंगे। अभी संपन्न हुए चुनाव में आप ने कांग्रेस का पूरी तरह से सफाया कर दिया तो 70 सदस्यीय विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को मात्र 3 सीटें ही मिल सकीं। आप ने अप्रत्याशित रूप से 67 सीटों पर जीत दर्ज की। यह भी पढ़ें– मनीष सिसौदिया बनाए जा सकते हैं दिल्ली के उप मुख्यमंत्री

अधिकारी श्याम सिंह ने आईएएनएस कहा कि मुख्य मंच के चारों तरफ फूलों और पौधों से सजा दिया गया है। मैदान के नजदीक रहने वाले रहमान ने आईएएनएस से कहा, “यह एकदम तरोताजा सा दिख रहा है और मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा कि यह वही रामलीला मैदान है जिसे मैं हर रोज देखता हूं।” पीने का पानी उपलब्ध होगा ही, कूड़ेदान और अस्थायी शौचालय भी बनाए गए हैं। इस समारोह को खड़े होकर देखने वालों के लिए मैदान में बड़े पर्दे भी लगाए गए हैं।

सुरक्षा की जवाबदेही दिल्ली पुलिस, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस निभाएगी। एक पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, “5000 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।”