नई दिल्ली: मुंबई की स्पेशल हॉलिडे कोर्ट ने यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को 11 मार्च तक प्रवर्तन निदेशालय (ED) की हिरास्त में भेज दिया है. इससे पहले आज सुबह मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में ईडी ने राणा कपूर से कुल 15 घंटे पूछताछ की, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. इससे पहले ईडी ने शुक्रवार को यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के मुंबई स्थित आवास पर छापे मारे थे. Also Read - यस बैंक स्‍कैम: CBI ने राणा कपूर फैमिली समेत 7 को आरोपी बनाया, लुक आउट सर्कुलर जारी

प्रवर्तन निदेशालय ने शुक्रवार रात वर्ली इलाके में ‘समुद्र महल’ परिसर में राणा के आवास की तलाशी ली थी और उससे वहां भी सख्त सवाल जवाब किए गए. इसके अलावा और अधिक जानकारी एवं सबूत जुटाने के लिए कपूर की 3 बेटियों के दिल्ली और मुंबई स्थित परिसरों पर शनिवार को छापे भी मारे गए थे. ईडी इस बात की जांच कर रहा है कि क्या यस बैंक प्रमोटर राणा कपूर और उनकी 2 बेटियों की डमी कंपनी अर्बन वेंचर्स को घोटालेबाजों से 600 करोड़ रुपये मिले थे.

नई दिल्ली में ईडी के एक अधिकारी ने बताया कि डीएचएफएल की जांच से पता चला है कि डीएचएफएल द्वारा निकाली गई धनराशि यस बैंक से ही प्राप्त हुई थी. उन्होंने कहा कि शुक्रवार रात कपूर के आवास पर हुई छानबीन का मकसद यस बैंक द्वारा डीएचएफएल को ऋण देने में किसी भी तरह की अनियमितता का पता लगाना था.