नई दिल्ली. बसपा सुप्रीमो मायावती के कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाने और दो राज्यो में अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद कांग्रेस की प्रतिक्रिया आ गई है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, एक समय लोग भावुकता में आकर खट्टी-मीठी चीजें बोल जाते हैं. लेकिन अंतिम में मायावती को सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर पूरा भरोसा है. ऐसे में दूसरी चीजों खुद इग्नोर हो जाती हैं.

बता दें कि छत्तीसगढ़ में बीएसपी से बात नहीं बनने के बाद कांग्रेस को उम्मीद थी कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में बीएसपी कांग्रेस के साथ आएगी और ऐसे में बीएसपी के जनाधार वाले वोटबैंक से कांग्रेस राज्यों को जीतने में सफल रहेगी. लेकिन मायावती के ताजा बयान से इस गठबंधन के साथ ही साल 2019 लोगसभा में बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन बनाने की उम्मीद पर पानी फिर गया है. लेकिन, कांग्रेस प्रवक्ता के बयान से ऐसा लगता है कि कांग्रेस को अब भी बीएसपी से उम्मीद बनी हुई है.
मायावती ने कहा- ‘बीजेपी को नहीं, विपक्ष को ही हराना चाहती है कांग्रेस’, BSP को खत्म करने का भी लगाया आरोप

बीएसपी अकेले लड़ेगी चुनाव
इससे पहले मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कांग्रेस पर जमकर आरोप लगाए. मायावती ने ऐलान किया कि राजस्थान और मध्यप्रदेश में बीएसपी अकेले चुनाव लड़ेगी. उन्होंने दावा किया कांग्रेस अकेले अपने दम पर बीजेपी को नहीं हरा सकती है. कांग्रेस के कुछ नेता दोनों राज्यों में गठबंधन नहीं चाहते हैं. ऐसे में कांग्रेस के साथ किसी कीमत पर चुनाव नहीं लड़ेंगे. हालांकि, इस दौरान मायावती सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लेकर नरम दिखीं. उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी कांग्रेस-बीएसपी के गठबंधन को लेकर ईमानदार हैं. लेकिन कुछ कांग्रेस के नेता ऐसा नहीं चाहते हैं.

कांग्रेस पर आरोप लगाया
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस का रुख बीजेपी को हराने का नहीं, बल्कि विपक्षियों को हराने का है. कांग्रेस गठबंधन की आड़ में बीएसपी को खत्म करना चाहती है. कांग्रेस को अहंकार है कि वह अकेले चुनाव लड़ सकती है. उसे गुजरात वाली गलतफहमी अब भी बनी हुई है. उन्होंने कहा, वह बीजेपी की तरह है जो बीएसपी को खत्म करने का प्रयास कर रही है.