नई दिल्‍ली: ओडिशा में छह साल की मासूम बच्‍ची से दुराचार करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. आरोपी युवक चॉकलेट देने के बहाने मासूम बच्‍ची को स्‍कूल में ले गया और उसके साथ दरिंदगी की. बच्‍ची के शोर मचाने पर आरोपी ने उसका सिर दीवार पर मारा, इससे बच्‍ची बेहोश हो गई. उसे मरा हुआ समझकर आरोपी युवक मौके से फरार हो गया. बच्‍ची को घरवालों ने अस्‍पताल में भर्ती कराया, जहां पता चला कि बच्‍ची कोमा में जा चुकी है. पुलिस ने मामले के आरोपी को पकड़ लिया है.

हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार को बच्‍ची अपने गांव की ही एक दुकान पर कुछ खरीदने गई थी. तभी आरोपी ने उसे चॉकलेट दिलाने का लालच दिया और एक स्‍कूल के अंदर ले गया. बताया गया है कि जिस स्‍कूल में बच्‍ची के साथ रेप किया गया संयोग से बच्‍ची के घरवाले उसी स्‍कूल में इस साल उसका दाखिला करवाने वाले थे. स्‍कूल में आरोपी ने बच्‍ची के साथ दुराचार किया. जब मासूम बच्‍ची रोने लगी तो आरोपी ने उसका मुंह दबाकर मारने की कोशिश की. जब आरोपी अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हुआ तो उसने बच्‍ची का सिर पकड़कर तीन बार दीवार में मारा. दीवार में सिर लगने के कारण मासूम बच्‍ची बेहोश हो गई. इस पर आरोपी ने समझा कि वह मर गई है, इसलिए वह उसे छोड़कर भाग आया.

कहीं 5वीं क्लास तो कहीं 6 साल की बच्ची से रेप, कठुआ-उन्नाव की तरह ही हैं ये केस

रात में कटी बिजली तो निकली थी मासूम, आरोपी भी था बच्‍ची को खोजने वालों में
बच्‍ची की मां ने बताया कि शनिवार शाम को थोड़ी देर के लिए गांव में बिजली कट गई थी. इस बीच बच्‍च्‍ी कहीं बाहर चली गई. जब थोड़ी देर तक वह नजर नहीं आई तब मां ने उसके गायब होने की खबर गांव वालों को दी. खबर मिलते ही गांव के लोग बच्‍ची को खोजने लगे. इस दौरान आरोपी भी बच्‍ची के घरवालों के साथ बच्‍ची को खोजने लगा.

शर्मीली थी मेरी बेटी
छह साल की मासूम बच्‍ची की मां ने कहा कि उनकी बेटी बहुत ही शर्मीली है. वे हैरान हैं कि कोई उसके साथ इतना घिनौना अपराध कैसे कर सकता है. बता दें कि बच्‍ची की मां छह महीने की गर्भवती हैं. उनके दो बच्‍चे और हैं.

12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप पर फांसी, अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी

उड़ीसा के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने जाना बच्ची का हाल
उड़ीसा के स्वास्थ्य मंत्री प्रताप जेना ने सोमवार को अस्पताल का दौरा कर पीडि़त बच्‍ची की सेहत पता की. उन्‍होंने कहा कि घटना ने सबको शर्मसार कर दिया है. राज्य सरकार मासूम बच्‍ची के इलाज का पूरा खर्च उठाएगी.

पुलिस ने आरोपी को पकड़ा
पुलिस ने आरोपी को बलात्कार, हत्या का प्रयास और यौन अपराधों (पीओसीएसओ) अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है. पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश किया, जिसने अपनी जमानत याचिका खारिज कर दी. हालांकि कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया. मामले को लेकर पुलिस ने कहा कि वे मामले में चार्जशीट को 60 दिनों से कम समय में दर्ज करने का प्रयास करेंगे. बता दें कि ओडिशा पुलिस को पिछले सात दिनों में नाबालिगों के साथ छेड़छाड़ व रेप की 10 शिकायतें मिली हैं.