rape and molestation with 17-year-old girl in Kerala: केरल की 17 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता ने स्तब्ध करने वाला खुलासा करते हुए कहा है कि गत कुछ महीनों में 44 लोगों ने उसका यौन उत्पीड़न किया है. पुलिस ने बताया कि किशोरी का कटु अनुभव तब सामने आया जब निर्भया केंद्र पर उसके साथ काउंसिलिंग का सत्र चल रहा था.Also Read - 15 साल की लड़की से मौसेरे भाई ने किया रेप, प्रेग्नेंट होने पर गर्भपात करवाया

केरल के मलप्पुरम जिले के पल्‍लकड़ में एक 17 वर्षीय लड़की से बलात्कार और छेड़छाड़ के आरोप में 44 पुरुषों के खिलाफ 32 मामले दर्ज किए गए हैं. मामले के सिलसिले में 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. लगभग सभी आरोपियों, जिनके खिलाफ यौन उत्पीड़न सहित विभिन्न आपराधिक धाराएं लगाई हैं और अधिकतर आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं और न्यायिक हिरासत में हैं. Also Read - PFI की रैली में भड़काऊ नारेबाजी करने वाले नाबालिग का वीडियो वायरल, पुलिस ने FIR दर्ज की

जानकारी के मुताबिक पीड़िता के साथ यौन उत्पीड़न की पहली घटना वर्ष 2016 में तब हुई, जब वह 13 साल की थी और इसके एक साल बाद फिर उसे इस तरह की यातना का सामना करना पड़ा. दूसरी घटना के बाद उसे बाल गृह भेजा गया और करीब एक साल पहले उसे अपनी मां और भाई के साथ रहने की अनुमति दी गई. Also Read - Petrol-Diesel Price : केंद्र की कटौती के बाद राजस्थान-केरल ने पेट्रोल-डीजल पर घटाया वैट, अब अन्य राज्यों की बारी

सर्किल पुलिस इंस्पेक्टर मोहम्मद हनीफा ने बताया कि लड़की बाल गृह से निकलने के बाद कुछ समय से लापता थी और पिछले दिसंबर में पलक्कड़ में उसके होने की जानकारी मिली जहां से उसे निर्भया केंद्र लाया गया.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि परामर्श सत्र के दौरान किशोरी ने निर्भया केंद्र के अधिकारियों को यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ की घटनाओं की जानकारी दी जिनका उसने सामना किया था. उन्होंने बताया कि लगभग सभी आरोपियों, जिनके खिलाफ यौन उत्पीड़न सहित विभिन्न आपराधिक धाराएं लगाई हैं, गिरफ्तार किए जा चुके हैं और न्यायिक हिरासत में हैं.

मलाप्पुरम बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष शाजेश भास्कर ने कहा कि समिति ने एक साल पहले किशोरी को बाहर भेजने से पहले सभी कानूनी एवं सुरक्षा कदमों को उठाया था.