नई दिल्ली: केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर ने शनिवार को बॉलीवुड फिल्मों की सफलता का उदाहरण देते हुए अर्थव्यवस्था में सुस्ती की बात को खारिज कर दिया था. हालांकि अपने इस बयान के एक दिन बाद ही उन्होंने इसे वापस भी ले लिया है. उन्होंने एक बयान जारी किया और कहा कि एक दिन में तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की जोकि तथ्यात्मक रूप से सही था. केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि दो अक्टूबर को तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की. यह “अर्थव्यवस्था” में मजबूती का संकेत देती है.

हालांकि इस बयान के अगले ही दिन उन्होंने एक और बयान जारी कर कहा, “मुम्बई में कल की गई मेरी टिप्पणी जिसमें मैंने कहा था कि 3 फिल्मों ने एक ही दिन में 120 करोड़ कमाए- जो अब तक की उच्चतम कमाई थी- यह तथ्यात्मक रूप से सही बयान था. मैंने यह बयान भारत की फिल्म राजधानी मुंबई दिया था. हमें अपनी फिल्म इंडस्ट्री पर बहुत गर्व है जो लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करती है और टैक्स के माध्यम से महत्वपूर्ण योगदान देती है.”

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने बातचीत के दौरान विस्तार से अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए सरकार द्वारा उठाये गये कदमों की चर्चा की. उन्होंने अपने बयान में कहा, “नरेंद्र मोदी सरकार हमेशा से आम लोगों की भावनाओं का सम्मान करती है. मेरे मीडिया इंटरैक्शन का संपूर्ण वीडियो मेरे सोशल मीडिया पर उपलब्ध है, फिर भी मुझे जानकर अफसोस हो रहा है कि मेरे बयान के एक हिस्से को तोड़मरोड़ कर पेश किया गया, एक संवेदनशील व्यक्ति होने के नाते मैं अपने बयान को वापस लेता हूं.”


बता दें कि शनिवार को केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और विधि मंत्री ने बेरोजगारी पर राष्‍ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) की रिपोर्ट को भी “गलत” बताया. इसमें कहा गया था कि साल 2017 में बेरोजगारी की दर पिछले 45 साल में सबसे ज्यादा रही. उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी कुछ दिन पहले कहा कि भारत और ब्राजील में आर्थिक सुस्ती इस साल कुछ ज्यादा साफ दिखती है.