नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने आज देश को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कई अहम मुद्दों पर बात की. इस दौरान गवर्नर ने कोरोना वायरस के मद्देनजर देश में आर्थिक हालात को लेकर भी बात. इस दौरान उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत बैंकों में किए गए बदलाव व रेपों रेट से की, उन्होंने कई अहम मुद्दों पर बात की, जानें उनकी भाषण की अहम बातें. Also Read - महामारी विशेषज्ञ का दावा, 2020 में विकसित हो सकता कोरोना वैक्सीन, मगर 2021 के अंत तक इसका उत्पादन संभव

1- कोरोना वायरस महामारी के दौरान रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 0.4 प्रतिशत की कटौती की साथ ही ब्याज दरों को कम किया है. इस कारण आम लोगों व बैंकों को भी इसका लाभ मिलेगा. साथ ही इसी फैसले के लाथ EMI दरों में भी कमी आएगी. यही नहीं महंगाई कम होने के साथ ही बैंकों से लोन लेना भी आसान हो जाएगा. Also Read - Mann Ki Baat : कोविड-19 की लड़ाई को कमजोर नहीं होने दे सकते, जरूरी न हो तो घर से बाहर न निकलें

2- लॉकडाउन व महामारी के दौरान रिवर्स रेपो रेट में किसी प्रकार का बदलाव नहीं. Also Read - Lockdown5.0 में खुलेंगे स्कूल, कॉलेज! केंद्र सरकार ने जारी किए नए दिशा-निर्देश, जानें अब क्या हैं नियम

3- खेती-किसानी को लेकर अच्छी खबर, इस साल अनाजों का उत्पादन 3.7 प्रतिशत बढ़ा. साथ ही मानसून के अच्छे रहने की उम्मीद. इस कारण अगले 6 महीने में अर्थव्यवस्था पटरी पर धीरे-धीरे कर लौटेगी.

4- शक्तिकांत दास ने कोरोना काल में लॉकडाउन के कारण आशंका जताई है कि देश में  महंगाई बढ़ सकती है.

5- आरबीआई गवर्नर ने कहा कि चालू वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ निगेटिव रहने की आशंका है.

6- शक्तिकांत दास ने कहा कि तीन महीने तक लोगों को EMI के भुगतान में छूट दी गई थी, जिसे हमने मंजूरी दे दी है.

7- कोरोना काल में छोटे व मध्य व्यापारों में नकदी की भारी समस्या देखने को मिली थी. इस कारण TLTRO 2.0 का ऐलान किया जा रहा है. साथ ही 50 हजार करोड़ रुपये नकदी नए नकदी की शुरुआत की जा रही है.