Karnataka Political Crisis Live Updates: मुंबई के एक होटल में ठहरे कर्नाटक के 14 बागी विधायकों ने सोमवार को कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से ‘खतरा होने’ की दोबारा शिकायत की है. बीते पांच दिनों में उनकी ओर से ऐसी शिकायत दूसरी बार आई है. पवई पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक को लिखे पत्र में 14 विधायकों ने यह भी कहा है कि उनका मल्लिकार्जुन खड़गे या गुलाम नबी आजाद या महाराष्ट्र और कर्नाटक कांग्रेस के किसी अन्य कांग्रेसी नेता से मिलने का कोई इरादा नहीं था. Also Read - कांग्रेस में बड़ा फेरबदल, सुरजेवाला, तारिक अनवर, जितेंद्र सिंह कांग्रेस के नए महासचिव नियुक्त; प्रियंका को पूरी यूपी का प्रभार

Also Read - CM बीएस येदियुरप्पा ने कहा- लॉकडाउन नहीं है कोरोना का समाधान, कर्नाटक पूरी तरह नहीं होगा बंद

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए या विश्‍वासमत हासिल करें: येदियुरप्पा Also Read - राज्यसभा चुनाव: कर्नाटक में निर्विरोध चुने गए पूर्व पीएम देवगौड़ा, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन और दो BJP उम्मीदवार

उन्होंने पुलिस से गुजारिश की है कि वे कांग्रेसी नेताओं को रेनेसां होटल में उन तक पहुंचने से रोकें जहां वे ठहरे हैं, क्योंकि कांग्रेसी नेताओं से उन्हें खतरे की आशंका है. विधायकों ने अपनी शिकायत की एक कॉपी जोन 10 के पुलिस उपायुक्त और होटल की सिक्योरिटी और मैनेजमेंट को भी भेजी है. हालांकि विधायकों द्वारा हस्ताक्षरित पत्र पर पुलिस स्टेशन द्वारा कोई तारीख या मुहर नहीं लगाई गई है.

उल्लेखनीय है कि 9 जुलाई को करीब एक दर्जन बागी सांसदों ने मुंबई पुलिस को एक ऐसा ही पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने कर्नाटक के मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता डी. के. शिवकुमार और अन्य कांग्रेसी मंत्रियों से मिलने से मना कर दिया था. ये नेता पिछले बुधवार से राज्य में चल रहे राजनीतिक संकट को हल करने के लिए कांग्रेस के बागी विधायकों से मिलने पहुंचे थे.