नई दिल्ली: निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड के चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में शुक्रवार सुबह ठीक 5.30 बजे फांसी दे दी गई. इसके साथ ही तिहाड़ के नाम चार दोषियों को एक साथ फांसी देने का रिकॉर्ड दर्ज हो गया. इन चारों दोषियों को दुष्कर्म के एक मामले में फांसी की सजा दी गई. निर्भया के दोषियों को अदालत द्वारा दिए गए मृत्युदंड के फैसले को क्रियान्वित करने का काम पवन जल्लाद ने किया. पवन का परिवार कई पीढ़ियों से जल्लाद का काम करता आ रहा है. पवन के पर-दादा लक्ष्मण, दादा कालू जल्लाद और पिता मम्मू जल्लाद भी फांसी की सजा को क्रियान्वित करने का काम किया करते थे. Also Read - Covid-19: कैदियों का कमाल! तिहाड़ जेल में ही बना डाले 75000 मास्क, सेनेटाइजर

Nirbhaya Gang Rape and Murder Case Latest Updates: चारों दोषियो को फांसी, निर्भया की मां बोलीं- आज तसल्ली मिली Also Read - कोरोना इफेक्ट: तिहाड़ से कैदियों की रिहाई संभव, सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार!

पवन ने चार दोषियों को एक साथ फांसी पर लटकाकर आजाद भारत में हुई फांसी को लेकर अपना नाम इतिहास में दर्ज करा लिया है. एक ही अपराध के लिए चार दोषियों को एक साथ फांसी देने का यह रिकॉर्ड अब पवन के नाम है.वहीं, डीजी जेल दोषियों की फांसी से पहले 24 घंटे तक जागते रहे और जेल के भीतर ही मौजूद रहे. जेल नंबर तीन के सुपरिटेंडेंट सुनील, एडिशनल आईजी (जेल) राजकुमार शर्मा और जेल के लीगल ऑफिसर पूरी रात जागते रहे. दूसरी ओर फांसी के बाद पवन जल्लाद को कड़ी सुरक्षा के बीच तिहाड़ जेल से मेरठ के लिए रवाना कर दिया गया है. Also Read - फांसी के फंदे पर झूले निर्भया के दोषी: पीएम मोदी ने कहा- न्याय जीता, महिलाओं को सम्मान मिलना चाहिए

बेटियों के लिए न्याय की खातिर लड़ाई जारी रहेगी, आज का दिन ‘न्याय दिवस’ घोषित हो: निर्भया की मां

निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा मिलते ही तिहाड़ जेल के बाहर अलग ही नजारा देखने को मिला. इस दौरान तिहाड़ के बाहर एकत्रित स्थानीय लोग निर्भया जिंदाबाद के नारे लगाते नजर आए. इसके साथ ही उन्होंने दोषियों का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील को खूब कोसा. जैसे ही फांसी की खबर सामने आई, तिहाड़ जेल के गेट नंबर तीन के बाहर इकट्ठा हुई भीड़ ने ‘निर्भया जिंदाबाद, ए. पी. सिंह मुर्दाबाद’ जैसे नारे लगाने शुरू कर दिए. इस दौरान लोग जश्न में डूबे नजर आए और उन्होंने मिठाई बांटकर अपनी खुशी का इजहार किया.