जोधपुर: एक सत्र अदालत ने बुधवार को कहा कि अभिनेता सलमान खान को विदेश यात्रा के लिए हर बार अदालत की अनुमति लेने की जरूरत नहीं होगी. अदालत ने सलमान द्वारा इस संबंध में किया गया अनुरोध स्वीकार कर लिया. Also Read - ट्यूबलाइट को लेकर सलमान का बड़ा बयान, 100 करोड़ रुपए कमाकर फिल्‍म फ्लॉप कहलाए तो मुझे दुख नहीं

सत्र अदालत काले हिरन के शिकार के मामले में खान को पांच साल की सजा के खिलाफ अपील सुन रही है. अभिनेता के वकील हस्तीमल सारस्वत ने कहा, ‘‘हमने विदेश यात्रा पर जाने पर हर बार अदालत से अनुमति लेने से खान को स्थायी छूट की मांग वाला आवेदन दायर किया था. अदालत ने अनुरोध स्वीकार कर लिया.’’ हालांकि, सलमान खान को इस तरह की किसी भी यात्रा से पहले अदालत को यात्रा के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध करानी होगी. Also Read - काला हिरण शिकार मामले में सलमान दोषी, यह 3 केस भी थे सल्लू पर

हिरण शिकार केस: सलमान खान की बेल पर सुनवाई करने वाले जज का तबादला, सोमवार तक टल सकती है सुनवाई Also Read - Salman Khan's look for his upcoming movie Tubelight is just like Sultan's look | See Pics : ‘सुल्तान’ जैसा ही है फिल्म ‘ट्यूबलाइट’ में सलमान ख़ान का लुक!

बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को जोधपुर की एक अदालत ने दो काले हिरणों का अक्तूबर 1998 में शिकार करने मामले में पांच साल की कैद की  सजा 5 अप्रैल को सुनाई थी. अदालत ने उन पर 10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया था. दो दिन जेल में बिजाने के बाद सलमान को 7 अप्रैल को जमानत मिली थी. इससे पहले सलमान शिकार के मामले में ही कुल 18 दिनों के लिए तीन बार साल 1998, 2006 और 2007 में भी जोधपुर जेल में रह चुके हैं. सलमान खान को अदालत ने वन्यजीव (संरक्षण) कानून के प्रावधान 9/51 के तहत दोषी करार दिया था. सलमान पर आरोप है कि उन्होंने एक अक्तूबर 1998 को जोधपुर के निकट कांकाणी गांव के भागोडा की ढाणी में दो काले हिरणों का शिकार किया था. यह घटना ‘हम साथ साथ है’ फिल्म की शूटिंग के दौरान की है.