श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में करीब पांच महीने बाद रविवार को धर्मस्थल फिर से खुल गए. धर्मस्थलों को कोविड-19 महामारी के चलते लागू लॉकडाउन के फलस्वरूप बंद कर दिया गया था. चार अगस्त को जम्मू कश्मीर प्रशासन ने 16 अगस्त से धर्मस्थलों को खोलने का निर्णय लिया था. लेकिन धार्मिक जुलूस और समागम पर प्रतिबंध जारी रहेगा.Also Read - Covid Cases, Deaths Surge in Russia: लगातार बढ़ रहे संक्रमण के मामले, मॉस्को में लगा 11 दिन का 'लॉकडाउन'

अधिकारियों ने बताया कि रविवार को जम्मू कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश में धर्मस्थल फिर से खुल गए. उन्होंने कहा कि लोगों एवं सभी धर्मस्थलों की प्रबंधन समितियों को इस महामारी के मद्देनजर जारी दिशा-निर्देशों एवं मानक संचालन प्रक्रिया का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया गया है. Also Read - Coronavirus cases In India: भयावह हुए कोरोना के आंकड़ें, एक दिन में 733 लोगों की मौत

उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत दंडात्मक कार्रवाई होगी. कटरा में माता वैष्णोदेवी जैसे तीर्थस्थल पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या पर 30 सितंबर तक पाबंदी होगी. Also Read - Maharashtra News: गृहमंत्री दिलीप वाल्से पाटिल कोरोना पॉजिटिव, संपर्क में आए लोगों से टेस्ट करवाने की अपील

एक तरफ जहां धार्मिक स्थल खोले गए तो वहीं दूसरी तरफ रविवार को प्रशासन ने जम्मू कश्मीर में एक बड़ा फैसला लेते हुए दो जिलों में 4जी मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल करने का आदेश दिया है. एक अधिकारी ने बताया कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने कश्मीर के गंदेरबल जिले और जम्मू क्षेत्र के उधमपुर में 4जी मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी हैं.

जम्मू कश्मीर प्रशासन ने अपने आदेश में कहा, “आज (रविवार) रात 9 बजे से 8 सितंबर तक केवल पोस्टपेड सेवाओं के लिए ट्रायल के आधार पर गांदरबल और उधमपुर में हाई स्पीड मोबाइल डेटा सेवाओं को बहाल किया जाएगा. हालांकि बाकी जिलों में, इंटरनेट स्पीड केवल 2जी तक ही सीमित रहेगी.”