देश के लिए मर मिटने का जूनून इस जवान के सर पर था। जब आतंकियों ने हमला किया तो अपनी जान की परवाह किये बिना लांस नायक मोहननाथ दुश्मनों से लोहा लेते रहें। जब आतंकवादियो ने जम्मू के कुपवाड़ा में हमला किया तब अपने साथियों की जान बचाते हुए लांस नायक मोहननाथ शहीद हो गए थे। आप को बता दें की गोस्वामी विशेष बल में तैनात थे। उनकी इस वीरता और देश के प्रति प्रेम की भावना आज सब के जवान पर हैं। 67वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर एक अशोक चक्र, दो कीर्ति चक्र और आठ शौर्य चक्र पुरस्कारों का ऐलान किया गया। यह भी पढ़ें: 67 गणतंत्र दिवस की धूम, जानिए किसने कहां फहराया तिरंगा

67 गणतंत्र दिवस पर लांस नायक मोहननाथ गोस्वामी को असाधारण वीरता प्रदर्शित करने के लिए अशोक चक्र उनकी पत्नी को प्रदान किया गया। इसके अलावा भारत माता की सुरक्षा लेते हुए शहीद हुए भारतीय सेना के जगदीशचंद का नाम भी शामिल है जिन्हें कीर्ति चक्कर से सम्मानित किया जाएगा। जगदीश ने पठानकोट में आतंकी हमले के दौरान सेना के बहादुर जवान ने अपनी जान की परवाह नही की और आंखिर सांस तक दुश्मनों को अंदर घुसने से रोके रखा।

भारतीय सेना के कर्नल महादिक जिन्होंने कुपवाड़ा में आतंकियों मुठभेड़ के दौरान अदम्य साहस का परिचय देते हुए अपने प्राण को न्योछावर कर दिया उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा सूबेदार महेंद्र सिंह को कीर्ति चक्र, मेजर प्रफुल्ल भारद्वाज, मेजर अनुराग कुमार, मेजर संदीप यादव, ले. हरजिंदर सिंह, नायक सतीश कुमार (मरणोपरांत), नायक खेम सिंह मेहरा और सिपाही धरम राम (मरणोपरांत) को भी शौर्य चक्र दिया जाएगा।