नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के 31 कर्मियों को उनकी सेवाओं के लिए पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर 12 पुलिसकर्मियों को वीरता के लिए पुलिस पदक, विशिष्ट सेवा के लिए दो राष्ट्रपति पुलिस पदक और सराहनीय सेवा के लिए 17 पुलिस पदक प्रदान किए गए. Also Read - Delhi Police के असिस्‍टेंट सब-इंस्‍पेक्‍टर ने PCR वाहन में खुद के सीने में गोली मारी, हुई मौत

वीरता पदक पाने वालों में पुलिस उपायुक्त ओमवीर सिंह, डीसीपी(विशेष सेल) प्रमोद सिंह कुशवाह, सहायक पुलिस आयुक्त हेमंत तिवारी, निरीक्षक मनीष जोशी, निरीक्षक पूरन चंद्र यादव, निरीक्षक संजीव कुमार यादव, निरीक्षक उमेश बर्थवाल और निरीक्षक सुनील कुमार, निरीक्षक अमूल त्यागी, उपनिरीक्षक यशपाल सिंह, उपनिरीक्षक मुकेश सिंह और सहायक उपनिरीक्षक गुलाब सिंह शामिल हैं. Also Read - SSC Delhi Police CAPF SI, ASI Result 2020: SSC आज जारी कर सकता है Delhi Police SI, ASI  2020 का रिजल्ट, इस Direct Link से कर सकते हैं डाउनलोड 

Republic Day 2020: गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत व सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन Also Read - कम की गई केजरीवाल की सुरक्षा, हटाए गए दिल्ली पुलिस के कमांडो? जानिए क्या बोला गृह मंत्रालय

वहीं चंडीगढ़ स्थित पीजीआई अस्पताल के बाहर मरीजों एवं उनके साथ आए लोगों को नि:शुल्क भोजन कराने वाले जगदीश लाल आहूजा, 25,000 से अधिक लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने वाले फैजावाद के मोहम्मद शरीफ, मुस्लिम भजन गायक मुन्ना मास्टर और असम में हाथियों के चिकित्सक कुशल कंवर सरमा उन गुमनाम नायकों में शामिल हैं जिन्हें इस साल पद्म श्री से सम्मानित किया गया है.

अधिकारियों ने बताया कि गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पुरस्कार विजेताओं की घोषणा की गई जिनमें जम्मू-कश्मीर के दिव्यांग सामाजिक कार्यकर्ता जावेद अहमद टक भी शामिल हैं जो दो दशक से दिव्यांग बच्चों के लिए काम कर रहे हैं, अनंतनाग एवं पुलवामा के 40 गांवों में 100 से अधिक बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा एवं अन्य सहायता मुहैया करा रहे हैं.

Padma Award 2020: पद्म श्री पुरस्कारों की घोषणा, जेटली, सुषमा व जार्ज फर्नांडीज को पद्म विभूषण, देखें पूरी लिस्ट

उन्होंने बताया कि औपचारिक शिक्षा नहीं लेने के बावजूद पौधों की विविध किस्मों के विशाल ज्ञान के कारण ‘वन की विश्वकोष’ उपाधि से जानी जाने वाली कर्नाटक की 72 वर्षीय तुलसी गौडा को भी इस पुरस्कार से नवाजा गया है.