Republic Day 2021: दिल्ली के राजपथ के साथ ही देश के सभी राज्यों में 72वें  गणतंत्र दिवस के अवसर पर तिरंगा झंडा फहराया गया. आज देश का हर नागरिक अपने देश की सभ्यता-संस्कृति के साथ ही देश की सेना पर गर्व का अनुभव कर रहा है और तिरंगे को झुककर सलाम कर रहा है. दिल्ली के राजपथ पर देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तिरंगा फहराया. राजपथ पर रंग-बिरंगी झाकियों ने मन मोह लिया तो वहीं राफेल की गर्जना ने देश की सैन्य ताकत का एहसास कराया.Also Read - President Of India Ramnath Kovind: आज भी अपने गांव में बसता है महामहिम का दिल, मातृभूमि को देखते ही भावुक हुए रामनाथ कोविंद, कही ये बात...

ऐसी दिखी भारत सैन्य की ताकत, गर्व है अपनी सेना पर Also Read - Sukma-Bijapur Encouter Updates: नक्सली मुठभेड़ में 22 जवान शहीद, नक्सलियों ने लूट लिए जूता-चप्पल-हथियार

एकलव्य फॉरमेशन की अगुवाई राफेल लड़ाकू विमान ने किया. राफेल के साथ दो जगुआर, दो मिग-29 लड़ाकू विमान भी इसमें शामिल रहे.  राफेल लड़ाकू विमान ने इस बार वर्टिकल चार्ली के रूप में अपना करतब दिखाया है. फ्लाइपास्ट के बाद जब राफेल लड़ाकू विमान ने उड़ान भरी तो सबकी नजरें आसमान पर टिक गईं. Also Read - फ्रांस से 3 और राफेल मिलने से भारत के पास अब 14 ऐसे फाइजर्स जेट, बढ़ी IAF की हमला करने की क्षमता

फ्लाइ पास्ट की शुरुआत रूद्र फॉरमेशन यानी एक डकोटा वायुयान, दो Mi-17 हेलिकॉप्टरों के साथ विक्रीमे फॉरमेशन के साथ शुरू हुआ. 1947 में शत्रुओं को सीमा से बाहर खदेड़ने की कार्रवाई में सैन्य दलों और आपूर्ति को कश्मीर घाटी पहुंचाने के लिए डकोटा काफी उपयोगी रहा था

उसके बाद सुदर्शन फॉरमेशन में एक चिनूक और दो Mi-17 हेलिकॉप्टरों के साथ विक्रीरम फॉर्मेशन हुआ. चिनूक हेलिकॉप्टर सुदूर अवस्थिति से हर तरह का वजन वहन करने में सक्षम हैं.

फिर, अत्याधुनिक Mi-35 हेलिकॉप्टर के साथ चार अपाचे हेलिकॉप्टरों को विक्टरी फॉरमेशन में दिखे. सटीक निशानावर अपाचे ने युद्ध भूमि में शत्रुओं को पछाड़ने के लिए भारतीय वायुसेना को महत्वपूर्ण बढ़त दी है.

भीम फॉरमेशन में 3 C-130 जे विमान विक्ट्री फॉरमेशन बनाया. सी-130 जे भारतीय वायुसेना का विशेष ऑपरेशन विमान है और सुदूर क्षेत्रों से छोटी और अर्धनिर्मित सरफेस पर संचालन में समर्थ है. ये विमान कोवर्ट इनसर्शन, विशेष एयरड्रॉप और एयर लैंडिड मिशनों, बेस रक्षा, आकस्मिकता में और स्थान खाली कराने और सुदूर क्षेत्रों में मानवीय सहायता पहुंचाते हैं.

राजपथ पर दिखी भारत की सांस्कृतिक विरासत

राजपथ पर आज दर्जनों राज्यों की अलग-अलग झांकिया दिखीं, जिसमें कलाकारों ने राज्य की विशेष संस्कृति का दर्शन दुनिया को कराया.

राज्यों के बाद केंद्रीय मंत्रालयों की झांकी निकाली गई.आईटी मंत्रालय की झांकी में राष्ट्र की प्रगति के लिए डिजिटल इंडिया- आत्मनिर्भर भारत थीम को दर्शाया गया, जिसमें आरोग्य सेतु ऐप भी दिखा.

झांकियों में सबसे पहले झांकी , संघ शासित प्रदेश लद्दाख की झांकी रही जिसने केन्द्र शासित प्रदेश बनने के बाद पहली गणतंत्र दिवस परेड में शिरकत की.

इसबार उत्तर प्रदेश की झांकी भी खास रही. इसमें राम मंदिर की झलक को दिखाया गया . उत्तर प्रदेश के सांस्कृतिक शहर  अयोध्या के बारे में पूरी जानकारी झांकी के माध्यम से दिखाया गया.