आसियान सम्मेलन और गणतंत्र दिवस समारोह में हिस्सा लेने के लिए ब्रुनेई के सुल्तान हसनल बोल्कियाह जब दिल्ली हवाईअड्डे पर पहुंचे तो उनके स्वागत के लिए खड़े अधिकारी उन्हें देखकर दंग रह गए. ब्रुनेई के सुल्तान दिल्ली खुद बोइंग 747 उड़ा कर पहुंचे. दुनिया के सबसे रईस लोगों में से एक ब्रूनेइ के सुल्तान हसनल बोल्कियाह को खुद जहाज उड़ाता देख सब हैरान हो गए.

वैसे यह पहला मौका नहीं है जब ब्रुनेई के सुल्तान अपना प्लेन ख़ुद उड़ाकर कहीं गए हों. वह इससे पहले 2008 और 2012 में भी ख़ुद अपना प्लेन उड़ाकर भारत आ चुके हैं. कहा जाता है कि वह अपने विदेश दौरे के दौरान ज्यादातर वक्त प्लेन के कॉकपिट में होते हैं. सुल्तान हसनल बोल्कियाह दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से हैं और उनका प्लेन किसी फाइव स्टार होटल से कम नहीं है. इसमें तमाम तरह की शाही सुख सुविधाएं मौजूद हैं. सुल्तान हसनल 50 साल से ज़्यादा से ब्रुनेई की गद्दी पर काबिज हैं.

Pm Narendra Modi and actor Shahrukh khan top 3 in davos wef social Media | मोदी, शाहरुख डब्ल्यूएफ के साथ सोशल मीडिया पर भी छाए

Pm Narendra Modi and actor Shahrukh khan top 3 in davos wef social Media | मोदी, शाहरुख डब्ल्यूएफ के साथ सोशल मीडिया पर भी छाए

बता दें कि इस बार गणतंत्र दिवस में आसियान के दस देशों के शासनाध्यक्ष हिस्सा ले रहे हैं. इनमें थाईलैंड, विएतनाम, मलेशिया, फिलीपीन्स, सिंगापुर, म्यांनमार, लाओस, ब्रुनेई और इंडोनेशिया शामिल हैं. ज्यादादातर नेता भारत पहुंच चुके हैं.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने आसियान नेताओं के पहुंचने की जानकारी दी. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘‘आसियान- भारत स्मारक शिखर सम्मेलन में भारत वियतनाम के प्रधानमंत्री न्ग्यूयेन जुआन फ्यूक और उनकी पत्नी सुश्री त्रान न्ग्यूयेन थू का स्वागत करता है. मानव संसाधन विकास राज्यमंत्र सत्यपाल सिंह ने उनकी अगवानी की.’’ आंग सान सू ची का राजधानी पहुंचने पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने स्वागत किया. थाईलैंड के प्रधानमंत्री जनरल प्रयुत चान- ओ- चा और उनकी पत्नी नारापोर्न चान-ओ-चा की अगवानी विदेश राज्यमंत्री वी के सिंह ने स्वागत किया. फिलीपीन के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुर्तेते की भी अगवानी सत्यपाल सिंह ने की.

राजधानी में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

गणतंत्र दिवस की तैयारियों और हाई-प्रोफाइल शिखर सम्मेलन के लिए 10 आसियान नेताओं के आगमन के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में जमीन से लेकर आसमान तक ऐसी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गयी है कि परिंदा भी पर ना मार सके. दिल्ली और शहर के सीमावर्ती इलाकों में हजारों सशस्त्र कर्मी पूरी सतर्कता के साथ गतिविधयों पर पैनी नजर बनाए हुए हैं ताकि कल आयोजित होने वाला गणतंत्र दिवस समारोह सफलतापूर्वक संपन्न हो.