नई दिल्ली. इस साल के गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान राजपथ पर होने वाली परेड के मुख्य आकर्षणों में 58 जनजातीय अतिथि, विभिन्न राज्यों और केंद्र सरकार के विभागों की 22 झाकियां तथा विभिन्न स्कूलों के छात्रों द्वारा दी जाने वाली प्रस्तुतियां होंगी. शनिवार को गणतंत्र दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा मुख्य अतिथि होंगे. गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति पर शहीदों को पुष्पचक्र चढ़ाकर करेंगे.

गृह मंत्रालय के एक ज्ञापन में बताया गया कि इस साल के गणतंत्र दिवस के मौके पर विभिन्न राज्यों की झांकियों के साथ सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और विकास पर आधारित केंद्र सरकार के विभागों की झांकियां परेड का हिस्सा होंगी. सांस्कृतिक विषय पर आधारित कुछ झांकियों में लोक नृत्य भी होगा. राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजे गए 26 बच्चे भी खुली जीप में बैठकर झांकी का हिस्सा बनेंगे. गृह मंत्रालय ने बताया कि इस साल गणतंत्र दिवस परेड का समय करीब 90 मिनट होगा. महात्मा गांधी की ‘समाधि’ को सुरक्षा कवच मुहैया कराने वाले केंद्रीय अर्ध सैनिक बल सीआईएसएफ की झांकी भी इस बार 11 साल के अंतराल के बाद गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा ले रही है. बल की झांकी में महात्मा गांधी की समाधि पर सुरक्षा में तैनात जवानों को दिखाया जाएगा. केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवान देश की प्रमुख संस्थाओं और प्रतिष्ठानों की सुरक्षा में तैनात रहते हैं. करीब 1.70 लाख कर्मियों वाला यह केंद्रीय अर्धसैनिक बल अपनी स्वर्ण जयंती मना रहा है.

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति होंगे मुख्य अतिथि
दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सीरिल रामफोसा शुक्रवार से दो दिवसीय भारत दौरे पर आएंगे और गणतंत्र दिवस समारोह पर वह मुख्य अतिथि होंगे. विदेश मंत्रालय ने कहा कि रामफोसा के साथ उनकी पत्नी डॉ. शेपो मोसेपे, नौ मंत्रियों सहित उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल, वरिष्ठ अधिकारी और 50 सदस्यों का व्यावसायिक प्रतिनिधिमंडल भी होगा. नेल्सन मंडेला के बाद वह दक्षिण अफ्रीका के दूसरे राष्ट्रपति होंगे जो गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि होंगे. देश के राष्ट्रपति के तौर पर रामफोसा की यह पहली भारत यात्रा होगी.

(इनपुट – एजेंसी)