नई दिल्ली: केंद्र द्वारा लोगों के बीच अंतरराज्यीय आवाजाही पर लगी पाबंदियों को हटाये जाने की अनुमति दिए जाने के बाद महाराष्ट्र तथा तमिलनाडु जैसे राज्यों और पूर्वोत्तर में शामिल कुछ राज्यों ने लॉकडाउन के चौथे चरण की समाप्ति के बाद पांचवें फेज में अंतरराज्यीय यात्रा पर प्रतिबंध जारी रखने का रविवार को फैसला किया. महाराष्ट्र और तमिलनाडु में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या सबसे अधिक है. Also Read - कोरोना: महाराष्ट्र के इस जिले में 10 से 18 जुलाई तक लागू होगा सख्त लॉकडाउन, जानें डिटेल

दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे है, लेकिन दिल्ली सरकार के अधिकारियों का कहना है कि नोएडा, गाजियाबाद, गुरूग्राम और अन्य एनसीआर शहरों से लोगों की अंतरराज्यीय आवाजाही के वह पक्ष में है. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा में अधिकारियों ने कोविड-19 के मामले बढ़ने का हवाला देते हुए राष्ट्रीय राजधानी से प्रवेश पर रोक लगाई हुई है. Also Read - Coronavirus in Thane: महाराष्ट्र में कोविड-19 का प्रकोप, ठाणे में संक्रमितों की संख्या 42,420 हुई, मृतकों की संख्या 1,268 पहुंची

राजस्‍थान
राजस्‍थान ने घोषणा की कि वे ‘अनलॉक-1’ के तहत ढील दिए जाने के रूप में अंतरराज्यीय आवाजाही की अनुमति देंगे.राजस्थान सरकार द्वारा जारी नए दिशा निर्देशों के अनुसार व्यक्तियों और वस्तुओं के अंतराज्यीय एवं राज्य के अंदर आवागमन पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा. ऐसे आवागमन के लिये पृथक से स्वीकृति/अनुज्ञा/पास की आवश्यकता नहीं होगी. Also Read - मुंबई में डिप्रेशन के कारण 16 साल की लड़की ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा- I am Sorry मां

तेलंगाना
तेलंगाना जैसे राज्यों ने घोषणा की कि वे ‘अनलॉक-1’ के तहत ढील दिए जाने के रूप में अंतरराज्यीय आवाजाही की अनुमति देंगे. कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण लगभग दो महीने से इस तरह का यात्रा प्रतिबंध लगा हुआ है.

कर्नाटक
कर्नाटक सरकार ने निरुद्ध क्षेत्र को छोड़कर लॉकडाउन में चरणबद्ध तरीके से छूट देने का रास्ता साफ करते हुए रविवार को लोगों और सामान की राज्य के अंदर और अंतरराज्यीय आवाजाही पर लगी रोक हटा दी. कर्नाटक के मुख्य सचिव टी एम विजय भाष्कर ने एक आदेश जारी करते हुए कहा, ”लोगों और सामानों की अंतरराज्यीय आवाजाही और राज्य के भीतर आवाजाही पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा.”

उत्‍तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि अंतरराज्यीय यात्रा पर कोई प्रतिबंध नहीं है, लेकिन दिल्ली से सटे लोगों की आवाजाही पर फैसला गाजियाबाद और नोएडा के जिला प्रशासनों पर छोड़ दिया. हालांकि, राज्य ने अपनी अंतरराज्यीय बस सेवा को फिर से शुरू नहीं किया है. उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आर के तिवारी ने रविवार को नये दिशा निर्देश जारी करते हुए कहा, ‘‘लोगों और वस्तुओं की अंतरराज्यीय और राज्य के भीतर आवाजाही पर कोई प्रतिबंध नहीं है. हालांकि अंतरराज्यीय बस सेवाओं का संचालन सरकार द्वारा नहीं किया जाएगा.

ओडिशा
ओडिशा सरकार ने कहा कि अंतरराज्यीय बस सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए मार्ग प्रशस्त करने की प्रक्रिया शुरू की गई है. परिवहन मंत्री पद्मनाभ बेहरा ने कहा कि उन सभी राज्यों को पत्र भेजे गए हैं जिनका ओडिशा के साथ बस संपर्क है और उनसे अंतरराज्यीय सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए उनकी प्रतिक्रिया जानी गई है.

महाराष्‍ट्र
महाराष्ट्र सरकार ने कहा, फंसे हुए प्रवासी श्रमिकों जैसे व्यक्तियों की अंतरराज्यीय और अंतर-जिला आवाजाही को जारी रखा जाएगा. महाराष्ट्र में लॉकडाउन की अवधि को 30 जून तक बढ़ाया है. राज्य सरकार ने तब तक ट्रेन और घरेलू हवाई यात्रा द्वारा यात्री आवाजाही शुरू नहीं करने का निर्णय है जब तक कि विशेष रूप से अलग-अलग आदेशों और मानक संचालन प्रक्रिया के माध्यम से अनुमति नहीं दी जाती है. सरकार ने कहा कि हालांकि चिकित्सा पेशेवरों, स्वच्छता कर्मियों और एम्बुलेंसों के लिए अंतरराज्यीय आवाजाही की अनुमति दी गई है.

तमिलनाडु
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने कहा कि अंतरराज्यीय बस परिवहन और मेट्रो और उपनगरीय ट्रेन सेवाओं पर प्रतिबंध जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि अंतर-क्षेत्र और अंतरराज्यीय यात्रा के लिए ई-पास अनिवार्य होगा.

पूर्वोत्तर राज्य
पूर्वोत्तर राज्यों में मेघालय ने लॉकडाउन की अवधि को छह जून तक बढ़ा दिया है और वाहनों की अंतर-जिला और अंतरराज्यीय आवाजाही पर प्रतिबंध जारी रखे है. मिजोरम सरकार ने भी कहा कि यात्रियों को ले जाने वाले वाहनों की सभी अंतरराज्यीय या सीमा-पार आवाजाही प्रतिबंधित रहेंगी. मेघालय में कोरोना वायरस के 27 जबकि मिजोरम में एक मामला सामने आया है.