International Flights: देश में वैसे तो कोरोना वायरस महामारी के मामले कम होते जा रहे हैं. लेकिन फिर भी नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने भारत में शेड्यूल अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक उड़ानों (International Flights) की आवाजाही पर प्रतिबंध 31 जुलाई 2021 तक बढ़ा दिया है. यह प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय ऑल-कार्गो संचालन और विशेष रूप से विमानन नियामक द्वारा अनुमोदित उड़ानों पर लागू नहीं होगा. इसके अलावे चुनिंदा देशों के साथ द्विपक्षीय एयर बबल समझौतों के तहत चलने वाली उड़ानें जारी रहेंगी.Also Read - Air India पर डीजीसीए ने लगाया 10 लाख का जुर्माना, दी नसीहत-आगे से ऐसा नहीं होना चाहिए, जानिए कारण

बता दें कि देशभर में 23 मार्च 2020 से लॉकडाउन लागू होने के बाद से अंतरराष्ट्रीय वाणिज्यिक यात्री उड़ानें निलंबित हैं. लेकिन मई 2020 से विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानें वंदे भारत मिशन के तहत जारी हैं. विदेश में फंसे यात्रियों को वापस लाने के लिए वंदे भारत मिशन चलाया गया और कई देशों के साथ एयर बबल करार भी किया गया है. वर्तमान में भारत ने 24 देशों के साथ द्विपक्षीय एयर बबल समझौता किया हुआ है. Also Read - कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद एयरपोर्ट और विमानों में मास्‍क फिर अनिवार्य, DGCA ने लागू किए नए नियम

Also Read - ओडिशा में प्रशिक्षण विमान बिरसाल हवाई पट्टी के पास दुर्घटनाग्रस्त हुआ, ट्रेनी पायलट घायल

भारतीय विमानन उद्योग को काफी हुआ है नुकसान
कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से भारतीय विमानन उद्योग को देशव्यापी लॉकडाउन के कारण काफी नुकसान हुआ है और धीरे-धीरे यह इस दोरान हुए नुकसान से उबरने की कोशिश कर रहा है. अप्रैल में महामारी की दूसरी लहर के कारण पूरे देश में हवाई यातायात में गिरावट आई, खासकर तब जब दूसरे देशों द्वारा भारत की उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया गया.

डीजीसीए ने दिया है आदेश-कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों पर होगी सख्ती
हाल ही में डीजीसीए ने कहा था कि सभी हवाई अड्डे के परिचालकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि हवाई अड्डे पर और यात्रा के दौरान लोग कोरोना नियमों का पालन कर रहे हैं या नहीं. लोगों ने मास्क सही तरीके से पहना है या नहीं. लोग दो गज की दूरी बनाकर रख रहे हैं या नहीं. इसकी जांच करनी होगी और अगर एयरलाइंस विमान के अंदर नियमों का पालन सुनिश्चित नहीं करा पाती हैं, तो उन पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है.