नई दिल्ली: मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे. हालांकि फाइनल रिजल्ट आने में इस बार लंबा इंतजार करना पड़ेगा. दरअसल चुनाव आयोग ने कांग्रेस की वो मांग मान ली है कि जिसमें हर राउंड के बाद रिजल्ट की जानकारी लिखित में देने की बात कही गई थी. शनिवार को चुनाव आयोग ने इस संबंध में आदेश जारी किया था. चुनाव आयोग की ओर से कांग्रेस की इस मांग को माने जाने के बाद हर राउंड के रिजल्ट की घोषणा के बाद ही अगले दौर की गणना के लिए ईवीएम मशीनें स्ट्रांग रूम से निकाली जाएंगी. हर सीट पर 16 से 20 राउंड की गणना होती है. ऐसे में बीच में जो गैप आ रहा है उसकी वजह से फाइनल नतीजे आने में वक्त लग सकता है. Also Read - कोरोना वायरस से मुकाबला के लिये पीएम मोदी ने की आपात राहत कोष की घोषणा, अक्षय कुमार ने दिए 25 करोड़

रिजल्ट से पहले बीजेपी नेता बोले- सीएम शिवराज ने नहीं दिया होता ये बयान तो नहीं होता 10-15 सीटों का नुकसान Also Read - राहुल गांधी ने कहा- गरीबों के पैदल पलायन के लिए सरकार जिम्मेदार, नागरिकों की ये हालत करना अपराध

बता दें कि सबसे पहले डाक मत पत्रों की गणना की जाती है. मंगलवार सुबह 8 बजे से गणना वोटों की गिनती शुरू हो जाएगी. करीब एक घंटे बाद ईवीएम में पड़े वोटों की गिनती शुरू होगी. चुनाव आयोग ने निर्देश दिया है कि अगले राउंड की गिनती तब-तक शुरू नहीं होगी, जब तक पहले राउंड का रिजल्ट डिस्प्ले बोर्ड पर प्रदर्शित न कर दिया जाए. कांग्रेस ने हर राउंड के बाद उम्मीदवारों को सर्टिफिकेट दिए जाने की मांग केंद्रीय निर्वाचन आयोग से की थी. Also Read - कोरोना से निपटने को अमेरिका ने भारत को दिए 29 लाख डॉलर, वेंटिलेटर भी भेजने को तैयार

महागठबंधन बनाने के लिए होने वाली है विपक्ष की बैठक, यशवंत सिन्हा ने ममता को बताया पीएम पद का योग्य उम्मीदवार

दूसरी ओर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी पार्टी के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को 11 दिसंबर को मतगणना के दौरान सावधानी रखने की हिदायत देते हुए कहा कि मतगणना के समय भी कांग्रेस कदम-कदम पर बाधाएं पैदा करने की कोशिश करेगी.चौहान ने संवाददाताओं से कहा ‘मध्यप्रदेश में भाजपा (चौथी बार) सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस के मित्र बौखलाहट में हैं और इसलिए कई अनर्गल बातें कर रहे हैं.

5 राज्यों के रिजल्ट से एक दिन पहले महागठबंधन पर चर्चा के लिए विपक्ष की बैठक आज

उन्होंने आगे कहा, हमको लगता है कि जैसे उन्होंने पहले ईवीएम पर संदेह के बादल खड़े किए, चुनाव आयोग तक को कठघरे में लिया. मतगणना के समय भी वह (कांग्रेस) कदम-कदम पर बाधाएं पैदा करने की कोशिश करेंगे. मध्यप्रदेश विधानसभा की सभी 230 सीटों के लिए 28 नवंबर को मतदान हुआ था और 11 दिसंबर को मतगणना होगी. वोटिंग खत्म होने के बाद आए एग्जिट पोल के नतीजों ने दोनों पार्टियों में हलचल बढ़ा दी है. तीन राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने जीत का दावा किया है. हालांकि अधिकांश एक्जिट पोल में दोनों ही पार्टियों में टांके की टक्कर की बात कही गई है.