मंगलदोई: असम के मंगलदोई जिले में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की अपडेटेड लिस्ट में अपना नाम ना होने पर एक सेवानिवृत्त स्कूल अध्यापक ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली. सुसाइड नोट में 74 वर्षीय दास ने कहा कि वह एनआरसी प्रक्रिया के बाद एक विदेशी के तौर पर पहचाने जाने के अपमान से बचने के लिए यह कदम उठा रहे हैं.

पहचान की खातिर दे दी जान
पुलिस अधीक्षक श्रीजीत टी ने इस बाबत जानकारी देते हुए बताया कि शैक्षिक पेशे से सेवानिवृत्ति के बाद वकालत करने वाले निरोद कुमार दास अपने कमरे में फंदे से लटके पाए गए. वह रविवार को सुबह की सैर करने के बाद लौटे और आत्महत्या कर ली. उनके परिवार के सदस्यों ने उनका शव देखा और पुलिस को इत्तिला किया. उनके परिवार के सदस्यों ने बताया कि सुसाइड नोट में 74 वर्षीय दास ने कहा कि वह एनआरसी प्रक्रिया के बाद एक विदेशी के तौर पर पहचाने जाने के अपमान से बचने के लिए यह कदम उठा रहे हैं.

सीएम के काफिले की कार की मामूली टक्कर से भड़के कैबिनेट मंत्री, पुलिसकर्मी को पैर छूकर मांगनी पड़ी माफी

परिजनों ने जानकारी देते हुए बताया कि उनकी पत्नी, तीनों बेटियों, दामादों और बच्चों के साथ-साथ ज्यादातर रिश्तेदारों का नाम एनआरसी में शामिल था जबकि  निरोद कुमार दास का नाम उसमे नहीं था.
उनके परिवार के सदस्यों ने बताया कि राज्य में 30 जून को प्रकाशित एनआरसी के पूर्ण मसौदे में नाम ना होने के बाद से दास परेशान थे. स्थानीय एनआरसी केंद्र ने दो महीने पहले उन्हें एक दस्तावेज देते हुए बताया था कि उनका नाम अभी शामिल नहीं किया गया क्योंकि उन्हें विदेशी के तौर पर चिह्नित किया गया है.

‘1200 रुपए लिए थे लौटा देना’
इसके बाद से ही वह परेशान चल रहे थे. परिवार और पुलिस ने बताया कि सुसाइड नोट में दास ने किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया और पांच लोगों के नाम बताए हैं जिनसे उन्होंने 1200 रुपये लिए थे. दास ने अपने परिवार को उन्हें रुपए लौटाने के लिए कहा है. गुस्साए परिवार और स्थानीय लोगों ने पुलिस को दास का शव पोस्टमार्टम के लिए ले जाने देने से इनकार कर दिया और मांग की कि उन्हें ‘विदेशी’ सूची में डालने के लिए एनआरसी केंद्र के खिलाफ कार्रवाई की जाए. जिला उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक दास के घर गए और परिवार वालों को आश्वासन दिया कि यह जांच की जाएगी कि दास का नाम एनआरसी में क्यों शामिल नहीं किया गया. इसके बाद ही परिवार वाले राजी हुए.

उद्धव ठाकरे का भाजपा पर हमला, कहा – मोदी सरकार को दोस्तों की जरूरत नहीं

छात्रों ने एक दिवसीय बंद बुलाया
इस बीच, बंगाली छात्र संघ ने एनआरसी के पूर्ण मसौदे में दास का नाम ना होने के विरोध में खरुपेटिया में सोमवार को एक दिवसीय बंद बुलाया. अधिकारियों ने बताया कि बंद के दौरान बाजार, दुकानें, शैक्षिक संस्थान, निजी कार्यालय और बैंक बंद रहे जबकि सड़कों से वाहन नदारद रहे. (इनपुट एजेंसी)