नई दिल्ली: देश भर में पिछले एक महीने से भी ज़्यादा से नागरिकता विधेयक, एनआरसी, एनपीआर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है. इस प्रदर्शन में छात्रों और महिलाओं के साथ-साथ पेशेवर लोग भी शामिल हैं. देश की राजधानी में स्थित नामी यूनिवर्सिटीज ने इस आंदोलन की हुंकार भरी थी और इसके चलते कई बार विश्वविद्यालय के अंदर और बाहर विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप भी ले लिया है.

इसी सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने 15 दिसंबर को जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) के नजदीक हुए हिंसक प्रदर्शन के आरोपियों की जानकारी देने वालों को एक लाख रुपये नकद इनाम देने की घोषणा की है. अधिकारियों ने सोमवार को बताया, ‘‘दिल्ली पुलिस के आयुक्त अमूल्य पटनायक ने 1,00,000 लाख रुपये के नकद इनाम की घोषणा की है. यह इनाम न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी हिंसा में वांछित अज्ञात लोगों की सूचना या सुराग देने वालों को मिलेगा. पुरस्कार की मियाद तबतक लागू रहेगी जबतक अज्ञात आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती जो जानबूझकर गिरफ्तारी से बच रहे हैं.’’

उल्लेखनीय है कि 15 दिसंबर को जामिया मिल्लिया इस्लामिया के नजदीक हुई हिंसा के मामले में न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी पुलिस थाने में 16 दिसंबर को दंगा, आगजनी, अवैध रूप से एकत्र होने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोपों में प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

आधिकारिक आदेश के मुताबिक आरोपियों के बारे में सूचना मिलने पर उसे तत्काल पुलिस उपायुक्त (दक्षिण पूर्व) या पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) को भेजा जा सकता है. आदेश के मुताबिक पुलिस आयुक्त के फैसला लेने का अधिकार सुरक्षित है कि पुरस्कार किसे और कई दावेदार होने पर किस अनुपात में दिया जाए.