मुम्बई: मुम्बई की एक विशेष अदालत ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े एक मादक पदार्थ मामले में एनसीबी द्वारा गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक की जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी थी. अब जमानत याचिका खारिज होने को लेकर बेहद ही चौंकाने वाली बातें सामने आ रही हैं. Also Read - NCB का खुलासा- रिया चक्रवर्ती ड्रग्स तस्करी की एक्टिव मेंबर, सुशांत और बड़े लोगों को करती थीं सप्लाई

दरअसल अगर रिया को जमानत मिल जाती तो वो बाकी के लोगों को सतर्क कर सकती थी. इससे एनसीबी की जांच में कई बाधाएं आतीं. सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े एक ड्रग मामले के सिलसिले में एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती को जमानत देने से इनकार करते हुए मुंबई में एक विशेष (नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्सटेंस एक्ट) अदालत ने कहा है कि अगर वह (रिया) जमानत पर रिहा हुई तो वह दूसरों को सतर्क कर सकती है और वह सबूत को भी नष्ट कर सकती है. Also Read - Shraddha Kapoor Hot Photos- श्रद्धा कपूर की इन तस्वीरों ने बरपाया कहर, टूटेंगे सारे रिकॉर्ड...

बता दें कि विशेष अदालत के न्यायाधीश जी. बी. गुराव ने मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत दर्ज मामलों पर सुनवाई करते हुए जमानत याचिकाएं खारिज कर दीं. सभी आरोपी अभी न्यायिक हिरासत में हैं. विशेष लोक अभियोजक अतुल सरपांडे ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि अदालत ने जमानत याचिकाएं खारिज करते हुए, अभियोजन पक्ष की इस बात को स्वीकार किया कि जांच एक महत्वपूर्ण चरण में है. Also Read - Sushant Singh Rajput Case: बॉम्बे हाईकोर्ट में NCB की दलील- ड्रग्स तस्करी में शामिल थीं रिया चक्रवर्ती

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जीबी गुरू ने 11 सितंबर को जमानत याचिका का निस्तारण करते हुए कहा कि जांच प्रारंभिक चरण में है और यदि आरोपी को जमानत पर रिहा किया जाता है तो वह अभियोजन साक्ष्य के साथ छेड़छाड़ कर सकता है. उन्होंने कहा, “अभियोजन पक्ष के अनुसार अभियुक्त ने अन्य व्यक्तियों के नाम ले लिए हैं. उन व्यक्तियों के संबंध में जाँच जारी है. यदि अभियुक्त को जमानत पर रिहा किया जाता है, तो वह उन व्यक्तियों को सचेत कर देगा और वे सबूत नष्ट कर देंगे.”

विशेष एनडीपीएस अदालत ने अपने आदेश में कहा, “”6,7,8 सितंबर को आरोपी (रिया) का बयान दर्ज किया गया था. अभियोजन पक्ष (NCB) के आरोपी (रिया) के बयान के आधार पर आरोपी की भूमिका का खुलासा किया और उसके बाद उसे अपराध में गिरफ्तार कर लिया गया. इसलिए, इस स्तर पर, जब जांच जारी है. एक प्रारंभिक चरण में, इसलिए यह नहीं कहा जा सकता है कि बयान को जबरदस्ती दर्ज किया गया है.”

वहीं रिया के वकील सतीश मान शिंदे ने कहा कि अदालत को आदेश मिलने के बाद वे आगे की कार्रवाई पर फैसला लेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘एनडीपीएस विशेष अदालत द्वारा पारित ओदश मिलने के बाद, हम अगले सप्ताह आगे की कार्रवाई पर और बंबई उच्च न्यायालय का रुख करने का फैसला लेंगे.’’ रिया ने अपनी जमानत याचिका में दावा किया था कि उन्हें मामले में गलत फंसाया जा रहा है.

रिया चक्रवर्ती ने यह भी कहा था कि तीन दिन की पूछताछ के दौरान जब वह एनसीबी के समक्ष पेश हुईं तो उन्हें स्वीकारोक्ति देने के लिए मजबूर किया गया था. एनसीबी ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि रिया को पता था कि राजपूत मादक पदार्थों का सेवन कर रह हैं. इसके बावजूद उन्होंने मादक पदार्थ खरीदना तथा उसके लिए भुगतान करना जारी रखा. एनसीबी ने कहा कि इस मामले में जब्त की गई प्रतिबंधित मादक पदार्थों की मात्रा कम थी, फिर भी यह वाणिज्यिक मात्रा थी और 1,85,200 रुपये की थी.

एनसीबी ने जमानत याचिका के जवाब में दाखिल किए हलफनामे में कहा था, ‘‘रिया चक्रवर्ती और शौविक चक्रवर्ती सुशांत सिंह राजपूत के लिए मादक पदार्थों की व्यवस्था करते थे और उसके पैसे देते थे.’’ एनसीबी ने तीन दिन की पूछताछ के बाद मंगलवार को रिया को गिरफ्तार किया था.

शौविक और राजपूत के ‘हाउस मैनेजर’ सैमुअल मिरांडा को एजेंसी ने पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया था. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की तीन संघीय एजेंसियां एनसीबी, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) विभिन्न दृष्टिकोणों से जांच कर रही हैं. गौरतलब है कि राजूपत गत 14 जून को बांद्रा स्थित अपने आवास में मृत पाये गये थे.

(इनपुट भाषा)